अमरावती के लिए एकत्रित किए जा रहे हैं 10-10 रूपए

Jan 06 2016 02:38 PM
अमरावती के लिए एकत्रित किए जा रहे हैं 10-10 रूपए

अमरावती : आमतौर पर यह देखने में आता है कि राज्यों का विखंडन होते ही राजनीतिक दल राजधानियां घोषित कर देते हैं और राजधानियों के अपने-अपने हिस्से में फंड एकत्रित हो जाता है। मगर आंध्रप्रदेश की राजधानी अमरावती को लेकर एक नई पहल सामने आई है जिसमें यह कहा गया है कि अमरावती की स्थापना के लिए सभी से 10-10 रूपए का योगदान लिया जा रहा है। इसके लिए नेताओं, जनप्रतिनिधियों के ही साथ प्रत्येक व्यक्ति से 10-10 रूपए एकत्रित किए जा रहे है।

अमरावती में सजावट और निर्माण के कार्य किए जाऐंगे। राजधानी के निर्माण को लेकर यह बात सामने आई है कि यहां पर भव्यता के साथ द्वार उद्यान आदि सजाए जाऐंगे। आंध्रप्रदेश की नई राजधानी अमरावती हेतु सरकार शिक्षकों और छात्रों की सहायता ले रही है। इस हेतु शिक्षकों और विद्यार्थियों से 10 - 10 रूपए एकत्रित करने के लिए कहा गया। मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू द्वारा इस योजना को माई कैपिटल, माई अमरावती, माइ ब्रिक नाम दिया गया।

स्कूल एजुकेशन कमिश्नर द्वारा एक सर्कुलर जारी किया गया जिसमें विद्यार्थियों और शिक्षकों को 10 जनवरी से पूर्व पैसे जमा करवाने के लिए कहा गया है। प्रथम चरण में 70 लाख विद्यार्थी और 3 लाख शिक्षकों को शामिल किया गया है।

योजना द्वारा करीब 7.2 करोड़ रूपए जमा किए जाने की पूरी संभावना जताई गई है। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आंध्रप्रदेश की नवगठित राजधानी को बनाए जाने के लिए करीब 16000 पवित्र तीर्थ स्थलों की मिट्टी को राजधानी के निर्माण कार्यों के उपयोग में लाई गई। इस राज्य से एक अलग राज्य तेलंगाना के गठन के बाद देश में 29 राज्य हो गए हैं।