अमेरिका तक पहुंचा NRC का विरोध

Aug 04 2018 06:43 PM
अमेरिका तक पहुंचा NRC का विरोध

वाशिंगटन. असम में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) की नई लिस्ट में 40 लाख भारतीयों के नाम ना होने के बाद से पुरे देश में राजनीती गरमा रही है। कांग्रेस और टीएमसी समेत अन्य विपक्षी पार्टियां लगातार इस ड्राफ्ट का विरोध कर रही हैं। लेकिन अब इस ड्राफ्ट का विरोध अमेरिका तक पहुँच गया है। 

दरअसल अमेरिका में रह रहे भारतीय मुस्लिमों के एक समूह ने असम में NRC को तत्काल खारिज करने की मांग की है। इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल (आईएएमसी) नामक इस संगठन का कहना है कि जब तक रजिस्ट्रेशन में बरती गई अनियमितताओं को दूर नहीं किया जाता है तब तक के लिए उसे खारिज कर देना चाहिए। इस समूह का मानना है कि NRC ड्राफ्ट में अनियमितताओं के कारण ही 40 लाख लोगों को शामिल नहीं किया जा सका है। 

  

आईएएमसी के प्रेसिडेंट अहसान खान ने कहा, "असम में मताधिकार से वंचित रहने वालों में सबसे ज्यादा वहां निवास करने वाला बांग्ला भाषी मुस्लिम समुदाय प्रभावित हुआ है इनपर घुसपैठिया होने का आरोप लगाया जाता है जबकि ये लोग भारतीय नागरिक हैं। दरअसल, यह लोकतंत्र को नष्ट करने की कवायद है और साफतौर से यह पक्षपात और भेदभावपूर्ण एजेंडा है।" गौरतलब है कि असम में NRC की नई लिस्ट वहाँ पर अवैध तरीके से रह रहे बांग्लादेशी घुसपैठियों की पहचान करने के लिए बनाई गई है।

ख़बरें और भी 

असम में सांसदों की गिरफ्तारी को लेकर टीएमसी ने दिया विशेषाधिकार हनन का नोटिस

असम की तरह अन्य राज्यों में भी एनआरसी की मांग उठी

?