अल्जाइमर में प्रोटीन क्लस्टर बनते हैं: आईआईटी-मंडी टीम द्वारा शोध

स्वास्थ्य अध्ययन: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं द्वारा प्रोटीन समूहों या समुच्चय के गठन की खोज की गई है। यूनाइटेड किंगडम में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और संयुक्त राज्य अमेरिका में दक्षिण फ्लोरिडा विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने दिखाया कि एमिलॉयड प्रीकर्सर प्रोटीन (एपीपी) सिग्नल पेप्टाइड अन्य पेप्टाइड्स के साथ मिलकर एमिलॉयड बीटा पेप्टाइड जैसे मिसफॉल्ड एग्रीगेट्स बना सकता है जो कोशिकाओं के बाहर जमा होता है और रोगों का कारण बनते हैं।

अल्जाइमर रोग डिमेंशिया का सबसे आम प्रकार है, और यह समय के साथ स्मृति और अन्य आवश्यक मानसिक कौशल को प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए, तंत्रिका कोशिकाओं के बीच अंतराल में एमिलॉयड बीटा पेप्टाइड नामक मिसफॉल्ड पेप्टाइड्स का जमाव अल्जाइमर रोग से जुड़ा हुआ है।

सेल के अंदर के प्रोटीन सिग्नल पेप्टाइड्स को डाक पते के रूप में उपयोग करते हैं। जबकि लगभग हर सेलुलर प्रक्रिया के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है, एकत्रीकरण और/या मिसफोल्डिंग के कारण उनकी खराब गतिविधियों के नकारात्मक परिणाम होते हैं। प्रोटीन एकत्रीकरण/मिसफोल्डिंग 50 से अधिक विभिन्न बीमारियों से जुड़ा हुआ है।

शोधकर्ताओं का अध्ययन  जो जर्नल सेल रिपोर्ट्स फिजिकल साइंस में प्रकाशित हुआ था, जिसमे यह लिखा गया कि सिग्नल पेप्टाइड्स अक्सर अपने लक्ष्य तक पहुंचने पर प्रोटीन से टूट जाते हैं और अक्सर सेलुलर मशीनरी द्वारा क्षतिग्रस्त हो जाते हैं।

जीवन में पाना है सफलता तो अपनाएं ये टिप्स

पहले मॉडल थे कार्तिक आर्यन इस तरह हुई थी बॉलीवुड में एंट्री

राज कुंद्रा के कारण कई बार ट्रोलिंग का शिकार हुई थी शिल्पा, जानिए कैसी है दोनों की लव लाइफ

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -