पृथ्वीराज की इस फिल्म ने बनाया था अनोखा रिकॉर्ड, 8 साल की उम्र में करने लगे थे अभिनय

हिंदी सिनेमा में लंबे समय से अपनी मौजूदगी दर्ज कराने वाला कपूर खानदान आज भी बॉलीवुड में अपनी दमदार फिल्मों के लिए जाना जाता है। सभी को पसंद किया जाता है और सभी मशहूर हैं। मूक सिनेमा के दौर से लेकर ब्लैक एंड व्हाइट और रंगीन सिनेमा तक जिन चंद कलाकारों ने अपनी पहचान बनाई उनमें अभिनेता पृथ्वीराज कपूर का नाम भी शामिल है। आप सभी को बता दें कि पृथ्वीराज कपूर का जन्म 3 नवंबर 1906 को लायलपुर (वर्तमान में फैसलाबाद) के समुंद्री में हुआ। जी हाँ लेकिन यह इलाका बंटवारे के बाद पाकिस्तान का हिस्सा बना। वहीं उनके पिता बशेश्वरनाथ कपूर इंडियन इंपीरियल पुलिस में अधिकारी थे।

जिस समय पृथ्वीराज कपूर 3 साल के थे, तब ही उनकी मां का निधन हो गया था। बचपन के दिनों से ही पृथ्वीराज को अभिनय का शौक था। जी हाँ और अपने इस शौक पूरा करते हुए उन्होंने लायलपुर और पेशावर के थिएटर से अपने अभिनय की शुरुआत की। मात्र 8 साल की उम्र में उन्होंने पहली बार स्कूली नाटक में हिस्सा लिया और इसके बाद पेशावर के एडवर्ड कॉलेज से बैचलर की डिग्री लेने तक नाटकों से उनका लगाव काफी बढ़ गया। उसके बाद वह अपने रंगमंच प्रेम के चलते लाहौर आए, लेकिन यहाँ उन्हें पढ़ा-लिखा होने की वजह से किसी नाटक मंडली में काम नहीं मिला।

उसके बाद वह 1929 में काम की तलाश करते हुए मुंबई पहुंचे और इंपीरियल फिल्म कंपनी में बिना वेतन के अतिरिक्त कलाकार बन गए। आपको बता दें कि इस दौरान साल 1931 में आई फिल्म 'आलमआरा' में उन्होंने 24 साल की उम्र में ही जवानी से लेकर बुढ़ापे तक की भूमिका निभाई। फिल्म 'मुगल ए आजम' में उनके अकबर के किरदार को आज भी याद किया जाता है।

साल 1941 में सोहराब मोदी के निर्देशन में बनी फिल्म सिकंदर वह फिल्म थी जिसने पृथ्वीराज कपूर को सुपरस्टार बना दिया। बहुत कम लोग जानते हैं कि उनकी फिल्म मुगल ए आजम हिंदी सिनेमा में एक मील का पत्थर साबित हुई। जी हाँ और यह फिल्म हिंदी सिनेमा के इतिहास में तब सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बनी और यह रिकॉर्ड करीब 15 साल तक बरकरार रहा। आप सभी को बता दें कि पृथ्वीराज कपूर ने 65 साल की उम्र में 29 मई 1972 को दुनिया को अलविदा कह दिया।

करण की पार्टी में तब्बू का लुक देख फ़िदा हुईं कैटरीना कैफ, देखते ही कही ये बात

माँ राबड़ी की फोटो शेयर कर लालू यादव की बेटी ने लिखा- “अम्मी जान”, यूजर्स बोले- 'ये माता जी बोलने लायक नहीं है'

'कक्षा में हिजाब पहनने की जिद करने वालों को न दें शिक्षा, वो अपना भविष्य नहीं चाहते..', बोले भाजपा विधायक

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -