आगरा में रिहाई के लिए कैदी कर रहे भूख हड़ताल

आगरा : केंद्रीय कारागार के 2000 से अधिक कैदियों में करीब 350 कैदी भूख हड़ताल में शामिल हो गए हैं। भूख हड़ताल शुक्रवार तक छठे दिन भी जारी रही। गौरतलब है कि इस मामले में कैदी 14 वर्ष की सजा पूर्ण होने के बाद रिहाई की मांग कर रहे हैं। मिली जानकारी के अनुसार भूख हड़ताल पर लगभग 6 कैदी बीमार हो गए इसके बाद उन्हें जिला चिकित्सालय भेज दिया गया। इस मामले में अधिकारियों ने गुरूवार को कैदियों से भेंट भी की। इसके बाद उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसएचएम रिजवी उनकी मांग सरकार को बता दिया।

माना जा रहा है कि इस मामले में जल्द निर्णय आ सकता है। कैदियों की हडछ़ताल को समाप्त करने के लिए तरह तरह के प्रयास किए जा रहे हैं मगर कैदियों का कहना है कि उनकी मांगें पूर्ण कर दी जाऐं ऐसे में ही वे हड़ताल को समाप्त करेंगे। सेंट्रल जेल में रिहाई हेतु भूख हड़ताल कर रहे 100 कैदियों मे से 30 की हालत गुरूवार को बिगड़ गई। जेल के चिकित्सक ने कैदियों की जांच भी की।

कैदियों की हड़ताल के चलते प्रशासन में तनाव है। जेल में 2 हजार कैदी हैं, इनमें से करीब 350 कैदी ऐसे हैं जिन्हें उम्र कैदी सजा मिली है। कुछ कैदी ऐसे हैं जो कि धरने पर बैठे हैं। कुछ कैदियों की हड़तालों के कारण स्थिति बिगड़ गई। दरअसल ये कैदी आगरा, अलीगढ़, सहारनपुर, मेरठ व मुरादाबाद मंडल के हैं।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -