इन नेताओं की कुंडली में शनि दिला सकता है सत्ता

Aug 21 2018 10:43 AM
इन नेताओं की कुंडली में शनि दिला सकता है सत्ता

ज्योतिष के अनुसार कुंडली का खास महत्व बताया गया है, राशिफल एक ज्योतिष गणना है जो कि सूर्य, चन्द्रमा और अन्य ग्रहों की स्थिति से सम्बंधित हमारे जीवन से जुड़ी कई बातों का राज खोलता है. 9 ग्रहों में से शनि को सबसे ख़ास माना गया है, दरअसल कुंडली में शनि का स्थान शुभ और अशुभ दोनों ही हो सकता है. अगर कुंडली में शनि का योग शुभ बन रहा है तो व्यक्ति अपनी जीवन में कई बड़ी उपलब्धियां हासिल कर सकता है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं देश की उन बड़ी हस्तियों के बारे में जिन्हे शानि की कृपा से बड़ी उपलब्धियां हासिल हुई.

ममता बनर्जी :

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का जन्म 5 जनवरी 1955 को वृषभ लग्न में हुआ. ज्योतिशास्त्र के अनुसार ममता बनर्जी की कुंडली में बहुत बड़ा राज योग है, 2012 से शनि की महादशा से शुरू हुआ था जिसमे वो मुख्यमंत्री बनी और इनकी कुंडली में अभी भी शनि की स्थिति शुभ बनी हुई है, कुंडली में शनि के शुभ प्रवेश से इन्हे राजनीति में बड़ा पद मिला है. ज्योतिष के अनुसार आगे भी इन्हे बढ़ी उपलब्धियां हासिल होगी.

नरेंद्र मोदी :

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से दुनिया का हर व्यक्ति वाकिफ हैं, नरेंद्र मोदी का जन्म 17 सितंबर 1950 को गुजरात के वड़नगर में हुआ था. इनकी कुंडली में भी शानि का शुभ प्रवेश है, ज्योतिष के अनुसार जब नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री का पद मिला था तब भी उनकी कुंडली में शानि का प्रवेश था और उसके बाद मोदी का बोलबाला बढ़ता गया. इसके अलावा बताया जा रहा है कि उनकी कुंडली में शनि की मौजूदगी ही उन्हें और भी लोकप्रियता हासिल करा सकती है.

मनमोहन सिंह :

देश के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का जन्म 26 सितंबर, 1932 को दोपहर दो बजे पाकिस्तान के झेलम में धनु लग्न में हुआ, इनकी राशि कर्क है, मनमोहन सिंह की कुंडली में शुक्र ग्रह अकारक लग्न से अष्टम भाव में चंद्र के साथ स्थित है. कुंडली के अनुसार मनमोहन सिंह की प्रधानमंत्री के रूप में अंतिम पारी थी. इनकी कुंडली में भद्रक महापुरुष योग, सुनफा योग, शंख योग, नीच भंग राज योग चला रहा है जिसके चलते इस समय मनमोहन सिंह राहु की महादशा से गुजर रहे हैं.

ये भी पढ़े

जानिए कितने बुलंद है आज आपकी किस्मत के सितारे

संतान नहीं है तो करें पुत्रदा एकादशी का व्रत

इच्छानुसार फल प्राप्ति के लिए ऐसे करें हनुमान जी की पूजा

?