महामहिम का महा चुनाव, JNU में की अपनी पसंद की नियुक्ति

Jan 30 2016 11:34 AM
महामहिम का महा चुनाव, JNU में की अपनी पसंद की नियुक्ति

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुलपति के तौर पर नई नियुक्ति को लेकर महामहिम राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी की पसंद को नज़रअंदाज़ कर दिया। उल्लेखनीय है कि इस पद हेतु जगदीश कुमार के नाम को राष्ट्रपति ने चार नामों की पैनल में से स्वीकृत किया। हालांकि जो सूची मानव संसाधान विकास मंत्री समृति ईरानी ने उनके पास भेजी उसमें वैज्ञानिक वीसी चैहान का नाम भी शामिल था। 

मिली जानकारी के अनुसार उपकुलपति हेतु चैहान स्मृति ईरानी की पहली पसंद थे। उनके द्वारा राष्ट्रपति को अपनी पसंद को लेकर जानकारी दी गई थी। राष्ट्रपति द्वारा इसे नज़रअंदाज़ कर दिया गया। प्रोफेसर जगदीश कुमार के नाम पर सहमति जता दी गई। उल्लेखनीय है कि किसी भी कुलपति की नियुक्ति के लिए मंत्रालय अपने नाम सुझा सकता है लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि राष्ट्रपति मंत्रालय की बात को माने ही।

राष्ट्रपति मंत्रालय की सिफारिशों को मानने के लिए बाध्य नहीं है। हालांकि राजनीतिकरूप से बहुमत दल के नेताओं की वोटिंग राष्ट्रपति के निर्वाचन में अहम भूमिका में होती है। जिसके कारण राष्ट्रपति उसी दल का निर्वाचित होता है जिस दल की सरकार होती है। हालांकि फिलहाल राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल अभी जारी है।

जिसके कारण केंद्र और राष्ट्रपति भवन में कुछ मसलों पर मतभिन्नता की बात सामने आती रही है। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से संबंधित एक अन्य मामला सामने आया है जिसमें यह बात सामने आई है कि दलित विद्यार्थी द्वारा आत्महत्या की धमकी दिए जाने के बाद उस विद्यार्थी की फैलोशिप को एक वर्ष के लिए बढ़ा दिया गया है। फैलोशिप का नवीनीकरण कर दिया गया है।