प्रेमी बेचारा बडा ही शर्मीला था

गांव का वह शायर प्रेमी बेचारा बडा ही शर्मीला था 
जब उसका प्रेम शहर की एक चंचल युवती से हो गया , 
तो सब को हैरानी थी कि वह कैसे उसके सामने विवाह का प्रस्ताव रखेगा |

बाद में मालूम पडा , उसने युवती से इस रूप में कहा - नूरजहां , 
मेरे घर के लोगों के साथ दफनाया जाना तुम पसन्द करोगी क्या ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -