एक ही परिवार के 26 लोग हुए कोरोना संक्रमित, योग-काढ़े और दवाओं से सबने दी 'महामारी' को मात

प्रयागराज: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की दूसरी लहर की चपेट में अब तक लाखों लोग आ चुके हैं. पूरे का पूरा परिवार एक साथ ही संक्रमित हो रहा हैं. एक ही परिवार के न जाने कितने लोग की साथ ही मौतें हो रहीं हैं. किन्तु इसी बीच प्रयागराज से एक पॉजिटिव खबर सामने आई है. यहां पर एक घर के 26 लोग एक-एक कर के संक्रमित हुए थे, किन्तु सभी लोग कोरोना को मात देकर वापस अपनों के पास आ गए हैं. यह कहानी है भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राघवेंद्र प्रसाद मिश्र के परिवार की.

जानकारी के अनुसार, आजाद नगर में रहने वाले राघवेंद्र मिश्र के छोटे बेटे को सबसे पहले कोरोना संक्रमण हुआ था. 11 अप्रैल को वह कोविड पॉजिटिव पाए गए थे. इसके बाद एक-एक करके परिवार के 26 सदस्य संक्रमित हो गए. जॉइंट फैमिली होने के कारण घर में कुल 31 लोग रहते हैं, सिर्फ 10 दिन में 5 को छोड़कर बाकी सबकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इनमें 87 साल के राघवेंद्र मिश्र भी शामिल थे. बताया जा रहा है कि राघवेंद्र मिश्र के संक्रमित होने पर घरवाले परेशान हो गए, क्योंकि 9 साल पहले जब उनके बेटे को किडनी की आवश्यकता थी, तो राघवेंद्र मिश्र ने ही उन्हें किडनी दी थी. मगर फिर भी राघवेंद्र ने हिम्मत नहीं हारी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, परिवार के सभी संक्रमित लोग एक दूसरे का हौसला बढ़ाते रहे और दिमाग में नकारात्मक को हावी नहीं होने दिया. उनके बेटे और स्पोर्ट्स टीचर रविंद्र मिश्र ने मीडिया को बताया है कि इस दौरान सभी डॉक्टर्स की सलाह के मुताबिक, दवाओं का सेवन और परहेज करते रहे. वहीं, नियमित रूप से योग, स्टीम, काढ़ा और हल्दी वाला दूध भी लेते रहे. काफी जद्दोजहद के बाद घर के सभी लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आ गई और अब सब स्वस्थ हैं.

भारत सरकार दे रही सोना खरीदने का सुनहरा मौका, 17 मई से शुरू होगी सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की बिक्री

छह महीने में 32.29 अरब डॉलर बढ़ा विदेशी मुद्रा भंडार, RBI ने दी गुड न्यूज़

आज बंद रहेगा शेयर बाजार, जानिए क्यों?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -