अगस्ता वेस्टलैंड डील में BJP के नेता भी शामिल, जांच करेगी BJP

रायपुर : अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में अब बीजेपी के नेताओं का भी नाम सामने आने लगा है। आम आदमी पार्टी से फटकारे गए योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण ने छतीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके बेटे अभिषेक पर कई गंभीर आरोप लगाए है। उनका कहना है कि सीएम के बेटे के कंपनी के माध्यम से ही कमीशनखोरी की गई है।

इस का जवाब देते हुए रमन सिंह ने कहा कि न तो मेरा और न ही मेरे बेटे का इससे कोई लेना-देना है। सीएम ने दोनों नेताओं को कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी। योगंद्र यादव और प्रशांत भूषण ने स्वराज अभियान के तहत गुरुवार को एक प्रेस कांफ्रेंस कर कोरोड़ों रुपए के अगस्ता डील में सीएम औऱ उनके बेटे का नाम उछाला।

इससे पहले अभिषेक का नाम पनामा पेपर्स में भी आया था। सीएम ने कहा कि मुझ पर और मेरे बेटे पर झूठे आरोप लगाने पर प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव दोनों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रहा हूँ। मैं इसके लिए वकीलों से राय ले रहा हूं।

रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस के बड़े नेताओं के इस अंतर्राष्ट्रीय घोटाले में नाम सामने आने के बाद मामले से ध्यान भटकाने के लिए यह सब किया जा रहा है। उन्होने कहा कि इटली की कोर्ट ने पहले ही 225 करोड़ का आरोप लगाते हुए अपना फैसला सुना दिया है।

झारखंड ने जिस कीमत में खरीदा, उससे 65 लाख अधिक में यहां खरीद गया। लेकिन ये डिफरेंस कैग की रिपोर्ट में ही आया है। जिसे विधानसभा में रखा जाएगा। हेलीकॉप्टर खरीदी में हमने टेंडर किया और टेक्निकल कमेटी बनी और तीन लोगों ने अगस्ता के हेलीकॉप्टर खरीदने का फैसला लिया।

स्वराज अभियान का आरोप है कि हैलीकॉप्टर की खरीदारी के लिए ग्लोबल टेंडर नहीं मंगाया गया। टेंडर के नियमों की भी अनदेखी की गई। आप से अलग हुए नेताओं ने बीजेपी को चुनौती दी कि वो रमन सिंह के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करें।

भूषण और यादव का दावा है कि इस डील में करीब 10 करोड़ रुपए रिश्वत के तौर पर दिए गए और उनका कहना है कि इससे जुड़े दस्तावेज भी उनके पास है, जिसे स्वराज अभियान की वेबसाइट पर अपलोड किया गया है।

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -