प्रमोद महाजन: पुण्य स्मरण पर श्रद्धा सुमन

साल 2006 में आज ही के दिन यानी 3 मई को  बीजेपी के कद्दावर नेता प्रमोद महाजन हमें छोड़ कर अचानक चले गए थे.  उनके ही छोटे भाई प्रवीण महाजन ने उनकी गोली मारकर हत्या कर दी. उनका कहना था पेप्सी और प्रमोद महाजन , कभी अपना फॉर्म्युला नहीं बताते.’ पार्टी के पहले प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के लिए सबसे भरोसेमंद और चतुर सिपाही की भूमिका निभाने वाले प्रमोद महाजन अब हमारे बीच नहीं है मगर उनका जीवंत व्यक्तित्व उन्हें आज भी सभी की यादो में बनाये हुए है. प्रमोद महाजन की बेटी पूनम महाजन मुंबई से सांसद है. वहीं बेटा राहुल भी पहली असफल शादी और कुछ विवादों के बाद अब बिग बॉस और अपने टीवी स्वयंवर में आने के बाद ज्यादा नज़र नहीं आता. आज प्रमोद महाजन की पुण्यतिथि पर पहली बीजेपी सरकार के सबसे काबिल सेना पति को श्रद्धांजलि देते हुए उनके जीवन के सफर पर एक नज़र -

प्रमोद वेंकटेशन महाजन का जन्म 30 अक्टूबर 1949 को तेलंगाना के महबूब नगर इलाके में एक देशहस्थ ब्राह्मण परिवार में हुआ था. प्रमोद महाजन और गोपीनाथ मुंडे महाराष्ट्र के अंबाजोगाई इलाके में स्थित स्वामी रामानंद तीर्थ कॉलेज में साथ पढ़ते थे. यहीं दोनों में दोस्ती हुई. बाद में प्रमोद की प्रेरणा से गोपीनाथ भी राजनीति में आए. प्रमोद की बहन की शादी गोपीनाथ से हुई. प्रमोद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) में बचपन से ही सक्रिय थे.  1974 में प्रमोद ने स्कूल टीचर की नौकरी छोड़कर पूरी तरह से संघ का प्रचारक बनने का फैसला किया. बीजेपी के गठन के बाद संघ ने उन्हें पार्टी के काम के लिए भेज दिया. वह महाराष्ट्र में बीजेपी के महासचिव बनाए गए. इस पद पर वह 1985 तक रहे. 1983 में ही उन्हें पार्टी का राष्ट्रीय सचिव भी बनाया गया. 1984 की इंदिरा सहानुभूति लहर के दौरान प्रमोद पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़े .

प्रमोद महाजन 1986 में पहली बार संसद पहुंचे. बतौर राज्यसभा सांसद. तब से लेकर मृत्यु तक वह राज्यसभा सांसद ही रहे सिर्फ दो साल को छोड़कर जब वह लोकसभा में थे. लोकसभा चुनाव वह सिर्फ एक बार जीते. 1996 में मुंबई नॉर्थ ईस्ट सीट से. 1998 में वह यहां से चुनाव हार गए और फिर बरास्ते राज्यसभा दिल्ली पहुंचे. अटल बिहारी वाजपेयी की दूसरी सरकार (1998) में प्रमोद महाजन पहले प्रधानमंत्री के सलाहकार बने. 2001 में उन्हें पिछले सरकारी नीतिगत विवादों के बीच कम्युनिकेशन मिनिस्टर बना दिया गया.  पत्रकार शिवानी भटनागर की हत्या के मामले में भी प्रमोद महाजन पर इल्जाम लगे. मामले के मुख्य आरोपी आईपीएस अधिकारी रविकांत शर्मा की पत्नी मधु ने इल्जाम लगाया कि शिवानी की हत्या के पीछे प्रमोद महाजन का हाथ था.

 

22 अप्रैल 2006 को प्रमोद महाजन अपने मुंबई स्थित अपार्टमेंट में परिवार के साथ थे. तभी उनके छोटे भाई प्रवीण महाजन वहां आए. उन्होंने अपनी पिस्टल से प्रमोद पर चार गोलियां दागीं. पहली गोली प्रमोद को नहीं लगी. मगर बाकी तीन प्रमोद के लीवर और पैनक्रिअस में जा धंसी. उन्हें हिंदुजा अस्पताल ले जाया गया. 13 दिन के संघर्ष के बाद दिल का दौरा पड़ने से 3 मई 2006 को प्रमोद का निधन हो गया. 4 मई 2006 को मुंबई के दादर इलाके में स्थित मशहूर शिवाजी पार्क में उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया.

कर्नाटक में भाजपा के निशाने पर सिर्फ कांग्रेस

तोड़ दूंगा अपने बेटे से रिश्ता: देवगौड़ा

मोदी ने किसानों के मुद्दों पर कर्नाटक सरकार को कोसा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -