धर्मेंद्र प्रधान ने इग्नू के दीक्षांत समारोह को संबोधित किया,प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने का आग्रह

 

केंद्रीय शिक्षा मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) को विश्व का ज्ञान केंद्र बनना चाहिए। इग्नू के 35वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने प्रौद्योगिकी के उपयोग से वंचितों तक पहुंचने का आग्रह किया।

मंत्री ने कहा कि इग्नू में आज का दीक्षांत समारोह एक बहुत बड़ा आत्मविश्वास बढ़ाने वाला है क्योंकि यह रचनात्मक शिक्षाशास्त्र के लिए विश्वविद्यालय की विशाल क्षमता का प्रतिनिधित्व करता है। उन्होंने कहा कि इग्नो एक आधुनिक भगवान हनुमान के रूप में उभरा है, जो दुनिया के सबसे गरीब और सबसे दूरदराज के हिस्सों में शिक्षा और शिक्षा ला रहा है।

श्री प्रधान के अनुसार इक्कीसवीं सदी ज्ञान की सदी है। उन्होंने कहा कि यदि भारत को ज्ञान आधारित आर्थिक महाशक्ति बनना है, तो इसके शैक्षिक परिदृश्य में एक प्रतिमान क्रांति की आवश्यकता है। NEP2020, उन्होंने कहा, हमारे शैक्षिक और कौशल परिदृश्य को बदलने की दिशा में एक शुरुआत है।

प्रौद्योगिकी नई तुल्यकारक है। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारे लोग, विशेष रूप से जो पिरामिड के निचले हिस्से में हैं, नवाचार के माध्यम से सशक्त हैं, साथ ही शिक्षा अछूतों तक पहुंचे। उन्होंने कहा कि डिजिटल विश्वविद्यालय और अन्य ई-लर्निंग परियोजनाएं सही रास्ते पर कदम हैं।

वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को ध्यान में रखते हुए, श्री प्रधान ने कहा कि हमें अपनी शिक्षा प्रणाली को अधिक समग्र, सहानुभूतिपूर्ण और विश्व के लिए अच्छा बनाने के लिए अपने सभ्यतागत खजाने के साथ-साथ हमारी भारतीय ज्ञान प्रणाली की विशाल क्षमता का दोहन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इग्नू को शिक्षा के क्षेत्र का विस्तार करने, ई-कंटेंट आर्किटेक्चर को मजबूत करने और दुनिया के एक बेंचमार्क ज्ञान केंद्र के रूप में उभरने का प्रयास करना चाहिए, उन्होंने कहा, प्रौद्योगिकी, नवाचार, इंटरनेट और डिजिटल का उपयोग करके। उन्होंने आगे कहा कि इग्नू को 'ज्ञान के पुनर्जागरण' का नेतृत्व करना चाहिए।

दिल्ली मेट्रो में सरकारी नौकरी पाने का बेहतरीन मौका, 3 लाख तक मिलेगी सैलरी

CM शिवराज ने वीडियो कॉल पर की शिवम से बात, बोले- 'मेरा भी एक्सीडेंट हुआ था...'

'नेहरू के खानदान का काल नहीं है, जो दादागिरी चलेगी...', हनुमान चालीसा विवाद पर बोले जयभान सिंह

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -