भारत-रूस अनौपचारिक शिखर वार्ता के संभावित मुद्दे

PM मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अनौपचारिक शिखर बैठक के लिए अगले हफ्ते रूस की यात्रा पर जाएंगे. इस दौरान में मुख्यत: ईरान परमाणु समझौते से अमेरिका के हटने के प्रभाव सहित विभिन्न वैश्विक व क्षेत्रीय मुद्दों पर बात किये जाने की संभावना है. 

21 मई को सुबह रूस के शहर सोशी में मोदी राष्ट्रपति पुतिन से बिना तय एजेंडा के बातचीत के लिए पहुंच सकते हैं. उल्लेखनीय है कि दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच सालाना शिखर बैठकों का सिलसिला 2000 से चल रहा है और ये बैठकें बारी-बारी से मास्को और नई दिल्ली में आयोजित की जाएंगी. औपचारिक बैठकों से हट कर प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग के साथ एक अनौपचारिक शिखर वार्ता की. इस तरह की वार्ता के बाद आमतौर पर कोई घोषणा पत्र जारी नहीं किया जाता और बातचीत के विषय दोनों नेता अपने से हिसाब से चुन लेते हैं.

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि दोनों शीर्ष नेताओं की यह मुलाकात चार से छह घंटे चल सकती है और इसका कोई तय ‘एजेंडा’ नहीं है. इस बैठक में द्विपक्षीय मुद्दों पर बहुत सीमित ही चर्चा होने की संभावना है. उन्होंने कहा कि दोनों नेता ईरान परमाणु समझौते से अमेरिका के हटने, अफगानिस्तान व सीरिया में हालात, आतंकवाद के खतरे तथा आगामी शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) व ब्रिक्स शिखर सम्मेलन बैठकों पर विचार विमर्श कर सकते हैं.

 

चीन में मुस्लिमों का ऐसा हाल, हाथ पैर बांध कर जबरन पिलाई जा रही शराब

ब्रिटेन में भारतीयों को वीजा न दिए जाने के विरोध में उतरे हजारों लोग

पर्यावरण से सामंजस्य मानव के लिए जरुरी है

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -