आयुष्मान भारत: अस्पताल में स्‍ट्रेचर नहीं, चादर पर बैठाकर मरीज को ले जाना पड़ा

नांदेड़: सरकारी अस्पताल और उनमे मरीजों के साथ दुर्व्यवहार और व्यवस्थाओं के किस्से नए नहीं है. अब महाराष्‍ट्र के एक सरकारी अस्‍पताल से का एक वीडियो एक और सच्चाई को बयान कर रहा है . वीडियो में दिखाया गया दृश्य नांदेड़ के सरकारी हॉस्पिटल का है जहा कथित रूप से स्‍ट्रेचर नहीं होने के कारण परिजन एक महिला मरीज को बेडशीट पर घसीटकर हॉस्पिटल से बाहर ले जाती हुई दिखाई  दे रही है. महिला मरीज की पैर की हड्डी टूट गई थी. पूरी घटना का किसी ने विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और अस्पताल की पोल खोल रहा है. इसमें दो महिलाएं अपनी एक रिश्‍तेदार को बेडशीट पर बैठाकर खींच रही हैं.

इलाज और प्‍लास्‍टर चढ़ाने के बाद महिला मरीज को घर जाने के लिए हॉस्पिटल में स्‍ट्रेचर नहीं था तो दो रिश्‍तेदार बेडशीट पर बैठाकर घसीटते हुए गेट तक ले जाती हुई साफ साफ दिख रही है. अब जब विडियो ने साडी पोल खोल दी है तो वही पुराना डायलॉग प्रशासन की जांच का आदेश आना ही था.  दे दिया है। डॉक्‍टर शंकर राव चव्‍हाण सरकारी अस्‍पताल के डीन चंद्रकांत महास्‍क ने बताया कि घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं.

लेकिन उस समय मौजूद अधिकारियों के मुताबिक मरीज को बताया गया था कि स्‍ट्रेचर जल्‍द ही फ्री हो जाएगा तो उन्‍हें दिया जाएगा. मगर आयुष्मान भारत में फ़िलहाल ये कोई नई बात नहीं है आये दिन ये घटना हो रही है और अब आम बात हो गई है तभी तो शायद सरकार के कान पर अब जो रेंगना भी अब बंद हो गई है 

पैसे के लेन-देन के चलते 5 दर्जन से अधिक लोगों ने अस्पताल में बरसाए लाठी-पत्थर

अस्पताल ले जाते समय प्रसूता ने जीप में दिया बच्चे को जन्म

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -