नीति आयोग ने वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे का स्वागत किया

नई दिल्ली : नीति आयोग ने 16 अरब अमेरिकी डॉलर (1.05 लाख करोड़ रुपये ) के वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे का स्वागत करते हुए कहा कि इसका भारत में विदेशी निवेश पर अच्छा असर पड़ेगा. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा कि यह सौदा भारत के विदेशी प्रत्यक्ष निवेश ( एफडीआई ) मानदंडों के अनुरूप है.

उल्लेखनीय है कि वॉलमार्ट कार्पोरेशन ने फ्लिपकार्ट में 77 प्रतिशत हिस्सेदारी के अधिग्रहण की घोषणा की है जो ई-कामर्स जगत का सबसे बड़ा सौदा है .इससे वैश्विक वॉलमार्ट कंपनी को भारत के तेजी से उभर रहे ऑनलाइन खुदरा बाजार में पहुंच मिलेगी, उसका मुकाबला एक अन्य प्रमुख कंपनी ऐमजॉन से होगा. वॉलमार्ट प्रमुख वैश्विक कंपनी है जो भारत में छोटे व्यवसायों को सस्ती लागत पर माल तैयार करने में मदद करेगी.यह सौदा देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर भी सकारात्मक प्रभाव डालेगा.

जबकि दूसरी ओर  स्वदेशी जागरण मंच ने  वॉलमार्ट  पर भारतीय बाजार में 'पिछले दरवाजे से प्रवेश' करने का आरोप लगाया है. स्वदेशी जागरण मंच के सह संयोजक अश्विनी महाजन ने प्रधान मंत्री को चिट्ठी लिखकर कहा, कि इससे छोटे-मझोले उद्यमों और छोटी दुकानों के मुश्किलें और बढ़ेंगी व नौकरियों के अधिक अवसर पैदा करने की संभावनाएं खत्म होंगी.उन्होंने 'राष्ट्रीय हित' की रक्षा के लिए प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप की मांग की है.

यह भी देखें

साढ़े नौ खरब में फ्लिपकार्ट को वालमार्ट ने ख़रीदा

अब तक की सबसे बड़ी सेल लेकर आया है फ्लिपकार्ट

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -