लखनऊ के बुजुर्ग टाइपिस्ट को आखिर मिल गई पुलिस सुरक्षा

Sep 22 2015 11:09 AM
लखनऊ के बुजुर्ग टाइपिस्ट को आखिर मिल गई पुलिस सुरक्षा

लखनऊ. सोमवार को पुलिस अफसर द्वारा टाइपराइटर तोड़े जाने और फिर धमकी मिलने से परेशान एक बुजुर्ग टाइपिस्ट को लखनऊ पुलिस से सिक्युरिटी मिल गई है. मंगलवार सुबह पुलिस उन्हें अपनी ही गाड़ी पर बैठा कर जीपीओ तक ले गई. अब रोज पुलिस दि‍नभर इस बुजुर्ग टाइपिस्ट का पूरा ध्‍यान रखेगी और शाम को फि‍र घर तक छोड़ेगी. आपको बता दें कि शनिवार को दरोगा प्रदीप कुमार ने कृष्णकुमार का टाइपराइटर तोड़ दिया था. जिसजे बाद सीएम तक जब यह बात पहुंची तो सीएम ने बुजुर्ग को नया टाइपराइटर दिलाया था. और साथ ही एसएसपी-डीएम ने माफी भी मांगी थी. फ़िलहाल इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है.

बावजूद इसके सोमवार को उन्हें धमकी मिली थी. मंगलवार को सुबह करीब छह बजे पुलि‍स गाड़ी को लेकर गोमतीनगर स्‍थि‍त टाइपि‍स्‍ट कृष्‍ण कुमार के घर पर पहुंच गई और कृष्ण कुमार जी के तैयार होते ही पुलि‍स की गाड़ी ने उन्हें जीपीओ पर छोड़ा. आपको बता दे की दो दि‍न पहले जहां एक पुलिस वाले ने उनके टाइपराइटर को लात मारी और उठाकर फेंका, ठीक उसी जगह पर आज दूसरे पुलिस वाले ने सम्‍मान के साथ उनके रोजी-रोटी के साधन को उठाकर उसे यथास्थान रखा.