एलोपैथी पर टिप्पणी करना योग गुरु बाबा रामदेव को पड़ा महंगा, रायपुर में दर्ज हुआ मुकदमा

रायपुर: कोरोना वायरस के उपचार के लिए डॉक्टरों द्वारा उपयोग की जा रही दवाओं को लेकर गलत जानकारी फैलाने के आरोप में रायपुर पुलिस ने योग गुरु रामदेव के खिलाफ एक एफआइआर दर्ज की है। शहर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव ने कहा कि भारतीय चिकित्सा संघ (आइएमए) की छत्तीसगढ़ इकाई की शिकायत के आधार पर बुधवार रात बाबा रामदेव के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया। उन्होंने बताया कि रामदेव के खिलाफ चार धाराओं के तहत मुकदमा दायर किया गया है। पुलिस अफसर ने कहा कि मामले में आगे की जांच चल रही है।

अस्पताल बोर्ड आइएमए (सीजी) के अध्यक्ष डॉ राकेश गुप्ता, आइएमए के रायपुर अध्यक्ष तथा विकास अग्रवाल उन डॉक्टरों में सम्मिलित थे जिन्होंने पहले शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत के मुताबिक, बीते एक वर्ष से बाबा रामदेव कथित रूप से चिकित्सकों, भारत सरकार, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) तथा अन्य अग्रिम पंक्ति के संगठनों द्वारा कोरोना संक्रमण के इलाज में इस्तेमाल की जा रही दवाओं के खिलाफ सोशल मीडिया पर झूठी सूचनाओं का प्रचार कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर उनके कई वीडियो हैं जिनमें उन्होंने कथित रूप से इस प्रकार की भ्रामक टिप्पणियां की थीं। शिकायत में बताया गया है कि ऐसे वक़्त में जब डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ तथा सरकार व प्रशासन की सभी शाखाएं मिलकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई में योगदान दे रहे हैं ऐसे में रामदेव कथित तौर पर स्थापित तथा स्वीकृत उपचार विधियों के बारे में लोगों को गुमराह कर रहे हैं।

दिल्ली पहुंचे पंजाब एकता पार्टी के तीन विधायक, राहुल गांधी से की मुलाकात

दिल्ली में अवैध हुक्का बार का भंडाफोड़, 29 लोग हुए गिरफ्तार

पति से परेशान हुई पत्नी ने खौलते पानी में मिलाई 3 किलो चीनी, फिर कर डाला ये काम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -