चाँद रात की मुबारकबाद देती शायरियां

चाँद रात की मुबारकबाद देती शायरियां

रात को नया चाँद मुबारक,
चाँद को चाँदनी मुबारक,
फलक को सितारे मुबारक,
सितारों को बुलन्दी मुबारक,
और आपको हमारी तरफ से ईद मुबारक….


चुपके से चाँद की रौशनी छू जाये आपको;
धीरे से ये हवा कुछ कह जाये आपको;
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से;
हम दुआ करते हैं वो मिल जाये आपको।
ईद मुबारक़!


ईद का चाँद जो देखा तो तमन्ना लिपटी
उन से तक़रीब-ए-मुलाक़ात का रिश्ता निकला.


रमजान में ना मिल सके;
ईद में नज़रें ही मिला लूं;
हाथ मिलाने से क्या होगा;
सीधा गले से लगा लूं।
ईद मुबारक.


उस से मिलना तो उसे ईद-मुबारक कहना
ये भी कहना कि मिरी ईद मुबारक कर दे.


दीपक में अगर नूर ना होता;
तन्हा दिल यूँ मजबूर ना होता;
मैं आपको “ईद मुबारक” कहने जरूर आता;
अगर आपका घर इतना दूर ना होता।
ईद मुबारक!


सदा हँसते रहो जैसे हँसते हैं फूल;
दुनिया के सारे गम तुम जाओ भूल;
चारों तरफ फ़ैलाओ खुशियों के गीत;
इसी उम्मीद के साथ तुम्हें मुबारक हो ईद।
ईद मुबारक.


सूरज की किरणें तारों की बहार;
चाँद की चाँदनी अपनों का प्यार;
हर घड़ी हो ख़ुशहाल;
उसी तरह मुबारक हो आपको ईद का त्योंहार।
ईद मुबारक!

Ramzan 2018 - रोज़े का असर, बेअसर करती है ये गलती

Ramzan 2018 - रमज़ान में रोज़े के लिए बनाएं स्वादिष्ट हलीम

जानिए, क्या है रमजान और क्यों रखते है इस दौरान रोजा

क्रिकेट से जुडी ताजा खबर हासिल करने के लिए न्यूज़ ट्रैक को Facebook और Twitter पर फॉलो करे! क्रिकेट से जुडी ताजा खबरों के लिए डाउनलोड करें Hindi News App