मुनीर नियाज़ी की डायरी से . . .

मुनीर नियाज़ी की डायरी से . . .

1. आ गई याद शाम ढलते ही
बुझ गया दिल चराग़ जलते ही.


2. आँखों में उड़ रही है लुटी महफ़िलों की धूल
इबरत-सरा-ए-दहर है और हम हैं दोस्तो.


3. आदत ही बना ली है तुम ने तो 'मुनीर' अपनी
जिस शहर में भी रहना उकताए हुए रहना.


4. आवाज़ दे के देख लो शायद वो मिल ही जाए
वर्ना ये उम्र भर का सफ़र-ए-राएगाँ तो है.


5. अब कौन मुंतज़िर है हमारे लिए वहाँ
शाम आ गई है लौट के घर जाएँ हम तो क्या.


6. अब किसी में अगले वक़्तों की वफ़ा बाक़ी नहीं
सब क़बीले एक हैं अब सारी ज़ातें एक सी.


7. अच्छी मिसाल बनतीं ज़ाहिर अगर वो होतीं
इन नेकियों को हम तो दरिया में डाल आए.


8. ऐसा सफ़र है जिस की कोई इंतिहा नहीं
ऐसा मकाँ है जिस में कोई हम-नफ़स नहीं.


9. अपने घरों से दूर बनों में फिरते हुए आवारा लोगो
कभी कभी जब वक़्त मिले तो अपने घर भी जाते रहना.


10. अपनी ही तेग़-ए-अदा से आप घायल हो गया
चाँद ने पानी में देखा और पागल हो गया.


11. एक दश्त-ए-ला-मकाँ फैला है मेरे हर तरफ़
दश्त से निकलूँ तो जा कर किन ठिकानों में रहूँ.


12. एक वारिस हमेशा होता है
तख़्त ख़ाली रहा नहीं करता.


13. इक और दरिया का सामना था 'मुनीर' मुझ को
मैं एक दरिया के पार उतरा तो मैं ने देखा.

इस अभिनेत्री पर आया निरहुआ का दिल, इम्प्रेस करने के लिए किया ऐसा काम

31 किलो कम करते ही लोगों ने समझा डिज्‍नी प्रिंस

मॉडल को पोर्नस्टार समझकर लोगों ने किया कुछ ऐसा

?