2016 में प्रधानमंत्री मोदी के दौरे होंगे सीमित

नई दिल्ली : अब तक तो विदेश दौरे के लिए विपक्ष के निशाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार रहे लेकिन अब विपक्ष को उन पर आरोप लगाने के अधिक मौके नहीं मिलेंगे। जी हां, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्ष 2016 का अधिकांश समय भारत में ही बिताऐंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्ष 2016 के एजेंडे में विदेशी दौरों को कम करने पर ध्यान देंगे। दरअसल वर्ष 2016 में राज्यसभा में नए सांसद चुनकर आऐंगे ऐसे में सांसदों का प्रभुत्व सत्ताधारी गठबंधन का होगा। जिसके कारण सरकार के लिए वर्ष 2016 उम्मीदों भरा होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना अधिकांश समय देश में ही व्यतीत करेंगे। उल्लेखीय है कि वर्ष 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 देशों का दौरा किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कम देशों की यात्रा ही करेंगे। इस तरह के दौरे देश में निवेश और सुरक्षा के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं। हालांकि वर्ष 2016 के विदेश दौरों के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पाकिस्तान, जापान, अमेरिका और चीन की यात्रा कर सकते हैं।

हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश यात्राऐं बेहद कूटनीतिक मानी जाती हैं। उनके दौरे अन्य प्रधानमंत्रियों के दौरों से बेहद अलग नज़र आते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस वर्ष मार्च माह के अंत में विदेशी दौरों की शुरूआत अमेरिका से करेंगे। मार्च माह में वे वाॅशिंगटन में परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में भागीदारी करने वाले हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्ष 2016 में चीन जाऐंगे। चीन में जी - 20 शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे। उनका यह दौरा नवंबर माह में होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विदेशी दौरों के तहत वेनेजुएला का दौरा भी शामिल है। वे इंडिया- एशियन और ईस्ट एशिया समिट में भागीदारी करने के लिए लाओस भी जा सकते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पाकिस्तान यात्रा सितंबर - नवंबर माह में होगी। यहां वे सार्क सम्मेलन में भागीदारी करने पहुंचेंगे।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -