वाराणसी में NGO से बात में बोले पीएम मोदी- 'सेवा करने वाला उसका फल नहीं मांगता'

वाराणसी: पीएम मोदी ने गुरुवार को अपने निर्वाचान क्षेत्र वाराणसी के प्रतिनिधियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्बोधित किया. इस दौरान पीएम ने कबीरदास के एक दोहे का जिक्र करते हुए कहा कि, "कबीरदास जी ने कहा है- 'सेवक फल मांगे नहीं, सेब करे दिन रात'. यानी, सेवा करने वाला अपनी सेवा का फल नहीं मांगता, बस निःस्वार्थ भाव से रात-दिन सेवा में लगा रहता है. दूसरों की निस्वार्थ सेवा के हमारे यही संस्कार हैं, जो इस मुश्किल घड़ी में काम आ रहें हैं."

पीएम मोदी ने कहा कि, "इसी भावना के साथ केंद्र सरकार ने भी निरंतर कोशिश की है कि कोरोना के इस मुश्किल वक़्त में सामान्य जन की पीड़ा को साझा किया जाए, उसको कम किया जाए. गरीब को राशन मिले, उसके पास कुछ धन रहे, उसके पास रोजगार हो और वो अपने काम के लिए क़र्ज़ ले सके, इन सभी बातों का ख्याल रखा गया है." उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि, "एक बात हमें बार-बार करनी है, हर किसी से करनी है, खुद से भी करनी है. हम सिंगल यूज प्लास्टिक से निजात चाहते हैं. हमें रास्तों पर थूंकने की आदत को बदलना होगा. दो गज की दूरी, गमछा या फेस मास्क और हाथ धोने की आदत को हमें अपना संस्कार बनाना है."

पीएम मोदी ने लॉकडाउन के दौरान विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधि के सामाजिक कार्यों की प्रशंसा भी की. पीएम मोदी ने कहा, "इतने कम वक़्त में फूड हेल्पलाइन और कम्यूनिटी किचन का व्यापक नेटवर्क तैयार करना, हेल्पलाइन विकसित करना, डेटा साइंस की सहायता लेना, वाराणसी स्मार्ट सिटी के कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का भरपूर उपयोग करना, यानि प्रत्येक स्तर पर सभी ने गरीबों की सहायता के लिए पूरी क्षमता से काम किया गया है."

इस तारीख तक आधार कार्ड से लिंक करा लें अपना पैन कार्ड, नहीं तो भरना पड़ सकता है जुर्माना

फेसबुक ने ब्राजील के राष्ट्रपति बोल्सनारो पर लगाया झूठी अफवाह फ़ैलाने का आरोप

चीन के खिलाफ सरकार सख्त, अब इम्पोर्ट ड्यूटी पर लिया बड़ा फैसला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -