जनता की कठिनाई को दूर करने के लिए पीएम मोदी ने इन लोगों से मांगी मदद

भारत के वर्तमान पीएम नरेंद्र मोदी ने सभी रेडियो जॉकी (आरजे) से अपील की है कि वह सरकार को बताएं कि कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते लोगों को कैसी-कैसी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है, ताकि सरकार उन कठिनाइयों का समाधान निकाल सके.

कोरोना वायरस के चलते, अब चिनफिंग और ट्रम्प करेंगे युद्ध का एलान

 शुक्रवार को एक विशेष वीडियो के जरिये पीएम मोदी ने कुछ आरजे से संपर्क साधा और उनसे आग्रह किया कि वह कोरोना पर विशेषज्ञों की राय का प्रचार-प्रसार करे. साथ ही इन हालात से निपटने के लिए सरकार के उठाए कदमों को भी लोगों तक पहुंचाने की अपील की है. प्रधानमंत्री ने रेडियो जॉकियों से कहा कि वह लोगों को बताएं कि किस तरह से डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मियों और एयरलाइनों के कर्मचारियों के साथ दुव्यर्वहार किया जा रहा है. लोगों को भय है कि उनके कारण उन्हें कोरोना संक्रमण हो जाएगा, इसलिए वह दु‌र्व्यवहार करते हैं. साथ ही, प्रधानमंत्री ने कहा कि ऑल इंडिया रेडियो की अफवाहों के प्रवाह को रोकने में विशेष रूप से महत्वपूर्ण भूमिका है. उन्होंने अन्‍य आरजे से अनुरोध भी किया कि वे अफवाहों के प्रसार को रोकने की दिशा में भी काम करें.

पहले पूरी दुनिया को कोरोना से किया संक्रमित, अब चीन कर रहा यह काम

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने गरीबों और वंचितों के लिए कई योजनाओं की घोषणा की है. इन अहम सूचनाओं को समय से लाभार्थियों तक पहुंचाया जाए. उन्होंने कहा कि रेडियो जॉकी बहुत बड़े समूह से संवाद करते हैं. इसलिए उनकी भूमिका बहुत अहम रहेगी. वह लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग और सेल्फ क्वारंटाइन के बारे में भी शिक्षित करें. साथ ही वह लोगों को पुलिस की ओर से लोगों की दिन-रात की जाने वाली सेवा के प्रति भी जागरूक करें. साथ ही उन्हें पुलिस से सहयोग करने की आवश्यकता को भी समझाएं. इस मौके पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर मौजूद थे. इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी कोराना वायरस को लेकर समाज के अलग-अलग समूहों से बातचीत कर चुके हैं.

अमेरिका में बढ़ी कोरोना की मार, संक्रमितों की संख्या 1 लाख के पार

कोरोना के प्रकोप से तबाह हुआ इटली, एक दिन में हुई 541 मौते

कोरोना को लेकर वैज्ञानिकों के मन में उठे सवाल, स्‍पेन ने चीन को वापस की किट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -