'पहले खाड़ी का तेल आता था, अब झाड़ी का भी आता है', गोरखपुर में बोले PM मोदी

गोरखपुर: गोरखपुर जिले को आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ी सौगात दी है. जी दरअसल PM मोदी आज 10 हजार करोड़ की लागत से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट खाद कारखाना, एम्स और बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर (आरएमआरसी) का लोकार्पण करने के लिए गोरखपुर में शामिल हुए हैं. साल 2016 में प्रधानमंत्री ने ही खाद कारखाना और एम्स की नींव रखी थी और अब उन्होंने खुद अपने हाथों इसे जनता को समर्पित कर दिया है. अब वह जनता को संबोधित कर रहे हैं.

अपने संबोधन में PM मोदी ने कहा- 'हमने तीन सूत्रों पर काम करना शुरू किया- यूरिया की शत प्रतिशत नीम कोटिंग की और दुरुपयोग रोका। दूसरा लोगों को यूरिया के कार्ड दिए ताकि पता चले कि किस खेत को कैसे खाद की जरूरत है। तीसरा हमने यूरिया उत्पादन बढ़ाया। बंद पड़ चुके कारखानों को हम खोल रहे हैं। एक शुरू हो गया है बाकी अन्य भी आने वाले सालों में भी खुल जाएंगे। जिस तरह से भगीरथ जी गंगा को लेकर आए थे उसी तरह इस खाद कारखाने तक ईंधन को पहुंचाने के लिए ऊर्जा गंगा को लाया गया है। हल्दिया से गोरखपुर तक गैस पाइपलाइन बिछाई गई है। इससे यहां तो ईंधन पहुंचा ही पूर्वी यूपी के कई शहरों में गैस पाइप लाइन से सस्ती गैस मिल रही है। मैंने कहा था कि गोरखपुर यूपी के विकास की धुरी बनेगा जो सच हो रहा है। यह कारखाना रोजगार और स्वरोजगार के अवसर भी देगा। पूर्वांचल में अनेक नए बिजनेस शुरू होंगे।'

इसी के साथ उन्होंने कहा- 'खाद के मामले में आत्मनिर्भरता क्यों जरूरी है उसे कोरोना काल में हमने देखा। अंतरराष्ट्रीय व्यापार बंद होने से खाद के दाम भी अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुत बढ़ गए। लेकिन हमने इसका बोझ किसानों पर नहीं पड़ने दिया। इसी साल खाद के दाम बढ़ने पर हमें तैंतालीस हजार करोड़ रुपये की सब्सिडी बढ़ानी पड़ी। क्योंकि कीमतों का असर हमारे किसानों पर न जाए। विश्व में जहां 60-65 रुपये किलो में खाद बिक रहा है वहीं हम भारत में 10 से 12 गुना कम कीमत पर उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसके लिए राष्ट्रीय मिशन भी शुरू किया गया है।'

आगे उन्होंने कहा- 'गन्ना किसानों का गढ़ पूर्वांचल का यह एरिया इथेनॉल उत्पादन के लिए भी महत्वपूर्ण है। पहले खाड़ी का तेल आता था अब झाड़ी का भी तेल आने लगा है। मैं योगी सरकार की सराहना करता हूं कि उन्होंने गन्ना किसानों के लिए अभूतपूर्व काम किया है। 350 रुपये तक मूल्य बढ़ाया। पिछली दो सरकारों ने जितना मिलकर किया योगी जी ने सिर्फ साढ़े चार में ही गन्ना किसानों को भुगतान किया।'

'देव तुल्‍य लोगन के प्रणाम करत बानी', गोरखपुर को सौगात देने के बाद बोले PM मोदी

'24 सालों तक कारखाना बंद रहा लेकिन किसी ने सुध नहीं ली': CM योगी

UP: कुतुबमीनार से भी दोगुना ऊंचा है गोरखपुर के खाद कारखाने का टॉवर, जानिए खासियत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -