सांसदों की इलेक्ट्रिक बस को PM मोदी ने दिया ग्रीन सिग्नल

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री मोदी ने सांसदों के लिए चलाई जाने वाली बस को हरी झंडी दिखाई। बैटरी से चलने वाली इस बस को पीएम ने मेक इन इंडिया की झलक बताया। बता दें कि मोदी ने दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण को ध्यान में रखते हुए सांसदों को इलेक्ट्रिक बसें तोहफे में देने का वादा किया था। इस पहल से दिल्ली में प्रदूषण को रोकने में मदद मिलेगी।

पीएम ने कहा कि भारत सौर ऊर्जा के क्षेत्र में बेहतर काम कर सकता है। इस मौके पर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि हम इस तरह की और 15 बसें सड़कों पर उतारेंगे। इसके बाद यह योजना देश के अन्य शहरों में भी कार्यान्वित होगी। पीएम ने पहले ही कहा था कि सब कुछ ठीक रहा तो वो 21 दिसंबर को सांसदों को दो इलेक्ट्रिक बसें गिफ्ट करेंगे। ये बसें लिथियम आयन चलित होंगी। ये बसें उसी बैटरी से चलेंगी जिसका प्रयोग इसरो उपग्रहों में करता है।

गडकरी ने कहा कि इसरो के वैज्ञानिकों ने मंत्रालय की अन्य इकाइयों के साथ मिलकर बैटरी का विकास किया है, जिसकी लागत 5 लाख रुपये है। वहीं ऐसी आयातित बैटरी की कीमत 55 लाख रुपये है। उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री के ‘मेक इन इंडिया’ अभियान के तहत है। ऐसे वाहनों को वाणिज्यिक रूप दिया जाएगा और पेंटेट पंजीकृत कराए जाएंगे।

परिवहन मंत्री ने कहा कि पायलट परियोजनाओं के तहत शुरुआत में दिल्ली में 15 बसें चलाई जाएंगी। उन्होने बढ़ते प्रदूषण पर सरकार की प्रतिबद्धता जताते हुए कहा कि प्रदूषण एक गंभीर मसला है, जिसके लिए सरकार काफी चिंतित है। मंत्रालय दो साल के भीतर इसके समाधान की योजना बना रही है। न केवल दिल्ली बल्कि पूरे देश में प्रदूषण को कम करना है। उन्होने यह भी कहा कि डीजल पर चलने वाली करीब 1.5 लाख बसों को इलेक्ट्रिक बसों में बदलने की योजना है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -