सरकार ने दी सफाई 'तिरंगे पर नहीं दिया था प्रधानमंत्री ने ऑटोग्राफ'

न्यूयॉर्क : केंद्र सरकार ने उन सभी खबरों का खंडन किया जिनमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा न्यूयार्क में राष्ट्रीय ध्वज पर हस्ताक्षर करके शेफ विकास खन्ना को देने की बात कही जा रही थी. सरकार के प्रवक्ता एंव पत्र सूचना कार्यालय के महानिदेशक फ्रैंक नरोन्हा ने स्पष्ट किया कि प्रधानमंत्री ने किसी राष्ट्रीय ध्वज पर हस्ताक्षर नहीं किए थे, PM ने जिस कपड़ेे पर ऑटोग्राफ दिया था वह राष्ट्रीय ध्वज नहीं था बल्कि विकास खन्ना की विकलांग पुत्री द्वारा बनाया गया एक हस्तशिल्प का नमूना था जिसमें न तो अशोक चक्र का चिन्ह था और न ही बीच में सफेद रंग था. उन्होंने उन खबरों को भी गलत बताया जिनमें विकास खन्ना से उस कपड़े को वापस लेने की बाद कही गई है.

गौरतलब है कि कल मीडिया में खबर थी कि प्रधानमंत्री ने न्यूयार्क में दुनिया की नामी गिरामी 500 कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों की मेजबानी के लिए गुरुवार को आयोजित डिनर पर एक तिरंगे झंडे पर हस्ताक्षर करके उसे अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा को भेंट करने के लिए विकास खन्ना को दिया था. 

मीडिया में यह खबर आते ही आग की तरह फैल गई. इसे लेकर सोशल मीडिया पर मोदी पर जमकर निशाना साधा गया. खबर आते ही कांग्रेसी नेताओं ने भी PM मोदी पर जमकर हमला बोला.

क्या था मामला?

दरअसल कल मीडिया में ऐसी बाते चार रही थी कि डिनर में बनाए व्यंजनों के स्वाद से खुश होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तिरंगे पर अपने आॅटोग्राफ दिए थे और यह तिरंगा विकास खन्ना को भेंट किया था. विकास खन्ना ने एक चैनल को यह तिरंगा दिखाया जिस पर मोदी ने दस्तखत किए थे. विकास इस झंडे को अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा को देने वाले थे.

- Sponsored Advert -

Most Popular

मुख्य समाचार

- Sponsored Advert -