पीएम मोदी, पुतिन ने नई दिल्ली में किया 21वां भारत-रूस शिखर सम्मेलन

 

नई दिल्ली: कल दिल्ली में भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों की समीक्षा की, जिसमें महामारी के बाद की वैश्विक आर्थिक सुधार और अफगानिस्तान की स्थिति शामिल है। प्रधान मंत्री मोदी ने शिखर सम्मेलन में अपने उद्घाटन भाषण में कहा कि कोविड द्वारा बनाई गई बाधाओं के बावजूद, भारत और रूस के बीच संबंधों की गति धीमी नहीं हुई है, और विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी लगातार मजबूत हो रही है। उन्होंने आगे कहा कि दोनों देशों ने कोविड के खिलाफ लड़ाई में एक साथ अच्छा काम किया है, चाहे वह वैक्सीन परीक्षण और उत्पादन, मानवीय सहायता या नागरिक प्रत्यावर्तन हो।

श्री मोदी ने कहा कि हाल के दशकों में वैश्विक स्तर पर कई मूलभूत परिवर्तन हुए हैं, साथ ही कई भू-राजनीतिक समीकरण भी आए हैं। उन्होंने कहा की भारत और रूस के बीच संबंध स्थिर रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि न केवल दोनों देशों ने बिना किसी हिचकिचाहट के एक साथ काम किया, बल्कि उन्होंने एक-दूसरे की संवेदनाओं का भी विशेष ध्यान रखा। उन्होंने इसे अंतर्राज्यीय मित्रता का अनूठा और भरोसेमंद मॉडल बताया।

प्रधान मंत्री ने कहा कि रक्षा और विदेश मंत्रालयों के बीच पहली 2+2 बैठक, जो कल पहले हुई थी, व्यवहार सहयोग में सुधार के लिए एक नए ढांचे की शुरुआत का प्रतीक है। अफगानिस्तान और अन्य क्षेत्रीय चुनौतियों पर भारत और रूस नियमित आधार पर संपर्क में हैं। श्री मोदी ने कहा कि पूर्वी आर्थिक मंच और व्लादिवोस्तोक शिखर सम्मेलन के साथ शुरू हुआ क्षेत्रीय जुड़ाव अब रूस के सुदूर पूर्व और भारतीय राज्यों के बीच एक सच्ची साझेदारी के रूप में विकसित हो रहा है।

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक बयान में कहा कि भारत एक प्रमुख शक्ति, एक मित्र राष्ट्र है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के संबंधों में सुधार हो रहा है और वह भविष्य को लेकर आशान्वित हैं। 

दुनियाभर के 40 से अधिक देशों में फैला Omicron, बढ़ रही आमजन की परेशानी

रूस के सैन्य निर्माण पर चर्चा के लिए बिडेन ने यूरोपीय सहयोगियों के साथ बातचीत की

आईएमएफ प्रमुख ने महामारी को नियंत्रित करने के लिए वैश्विक सहयोग की अपील की

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -