सियाचीन में जान की बाजी लगाने वाले जवान से मिले पीएम मोदी

Feb 09 2016 03:03 PM
सियाचीन में जान की बाजी लगाने वाले जवान से मिले पीएम मोदी

श्रीनगर : सियाचिन में हिमस्खलन के चलते लापता हुए जवानों में से एक जवान जीवित बच गया है। हालांकि इस जवान को बर्फ की सतह के करीब 25 फीट नीचे से निकाला गया। इस जवान की हालत नाजुक बनी हुई है। जवान की पहचान लांस नायक हनुमंथ्प्पा के तौर पर हुई है। वे आरआर चिकित्सालय में भर्ती हैं। चिकित्सकों ने जानकारी देते हुए कहा है कि उनके महत्वपूर्ण अंग अच्छी तरह से कार्य कर रहे हैं। जिसके कारण चिकित्सकों को उनका उपचार करने में सहायता मिल रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लांस नायक को देखने हेतु चिकित्सालय पहुंचे।

इसके अतिरिक्त थल सेना अध्यक्ष भी उनसे मिलने चिकित्सालय पहुंचे। हनुमंथप्पा की हालत नाजुक बताई जा रही है। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है।हनुमंथप्पा के जीवित होने की जानकारी मिलते ही उनके घर में खुशी की लहर दौड़ गई। सेना और सरकार उनके बचने के लिए चमत्कार की संभावना जता रही है। भारतीय सेना के कमांडर डीएस हूडा ने यह भी कहा कि वे उम्मीद कर रहे हैं कि कोई चमत्कार हो जाए और ये पूरी तरह से स्वस्थ्य हो जाऐं।

हालांकि कहा जा रहा है कि हनुमंथप्पा के स्वास्थ्य में सुधार आने में कुछ समय लग सकता है। हनुमंथप्पा के स्वास्थ्य को लेकर विदेश राज्यमंत्री ने भी कहा है कि हनुमंथप्पा जल्द स्वस्थ्य हों यही सब चाहते हैं। पूरा देश उनके लिए दुआऐं कर रहा है।

उन्होंने कहा कि वे ऐसे जवान हैं जो 6 दिनों तक बर्फ में 25 फीट नीचे दबे होने के बाद जिंदा मिले हैं। उल्लेखनीय है कि सियाचीन में 20 हजार फीट की उंचाई पर मद्रास रेजीमेंट के जवान तैनात थे। 3 फरवरी को बर्फीला तूफान आया और हिमस्खलन हो गया जिसके कारण जवान प्रभावित हुए।