दिल्‍ली : अनाज मंडी में भीषण अग्निकांड में 43 लोगों की मौत, इन वजहों से बचाव में आई मुश्किलें

Dec 08 2019 11:51 AM
दिल्‍ली : अनाज मंडी में भीषण अग्निकांड में 43 लोगों की मौत, इन वजहों से बचाव में आई मुश्किलें

रविवार को राजधानी दिल्‍ली की अनाज मंडी में चल रही एक फैक्ट्री में सुबह पांच बजकर 22 मिनट पर आग लग गई जिसमें 43 लोगों की मौत हो गई जबकि अभी भी कई लोग घायल हैं जिन्‍हें आरएमएल, हिंदू राव समेत दूसरे अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. मौत का आंकड़ा और बढ़ सकता है क्‍योंकि अभी भी कई लोगों की हालत नाजुक है.घटना की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दमकल की 30 गाड़‍ियां आग बुझाने के काम में लगी थीं.

छत्तीसगढ़ में 6 वर्षीय मासूम के साथ बलात्कार, 15 साल का आरोपी गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार मौके पर मौजूद चीफ फायर अधिकारी के हवाले से बताया गया है कि दमकल विभाग को जब आग लगने की जानकारी मिली तो केवल यह बताया गया कि एक इमारत में आग लगी है. सूचना देने वालों ने यह नहीं बताया कि वहां कई लोग फंसे हैं. अधिकारी के मुताबिक, यदि इस बात की जानकारी होती कि इतनी बड़ी संख्या में लोग भी इमारत में फंसे हैं तो हम और तैयारी के साथ मौके पर पहुंचते. माना जा रहा है कि यदि सही सूचना पहले ही मिली होती तो कई और लोगों की जान बचाई जा सकती थी.

छत्तीसगढ़ : पीएम मोदी के प्लास्टिक पर बैन के बाद भी जिला वन विभाग ने किया निंदनिय काम

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जिस अनाज मंडी इलाके में घटना हुई वहां गलियां बहुत संकरी थी और आसपास पानी का साधन भी नहीं था जिससे दमकल कर्मियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा. चूंकि, घटनास्‍थल पर एक बार में एक ही गाड़ी भीतर जा सकती थी इससे राहत कार्यों में भी देर हुई. चूंकि, मकान में फैक्ट्रियां आपस में जुड़ी हुई थीं इसलिए आग तेजी फैलती गई. घटना की भयावहता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चार घंटे से ज्यादा वक्त से राहत कार्य जारी है. यही नहीं इसके लिए एनडीआरएफ की भी मदद लेनी पड़ी है.

मद्रास हाई कोर्ट का आदेश, दो बालिग लोगों के 'लिव-इन रिलेशन' में रहना अपराध नहीं

फिर मोदी सरकार के विरोध में खड़ी हुईं ममता बनर्जी, दे डाली खुली चेतावनी

इंदौर: आग लगने से तीन बसें हुईं राख, यात्रियों में मची भगदड़