Neighbourhood policy में नेपाल सबसे पहले-पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय दौरे के लिए नेपाल पहुंचे यहां उन्होंने जनकपुर के जानकी मंदिर में पूजा की. PM ने यहां जनसभा में 'जय सिया राम' कहकर अपने भाषण की शुरुआत की. यहां प्रधानमंत्री का स्वागत यहां 121 किलो की फूलमाला पहनाकर किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मैं अगस्त 2014 में पहली बार नेपाल आया था, तब मैंने कहा था कि जल्द ही मैं जनकपुर आऊंगा. लेकिन मैं तुरंत तो आ नहीं सका, देरी से आने के लिए माफी मांगता हूं. यहां आने की मेरी पुरानी इच्छा थी. उन्होंने कहा कि यहां मंदिर में दर्शन कर मेरा जीवन सफल हुआ. उन्होंने कहा कि सौभाग्य है कि एकादशी के दिन मैया सीता ने मुझे यहां बुलाया है.

पीएम मोदी ने कहा कि भारत-नेपाल के बीच त्रेता युग से दोस्ती है, राजा जनक और दशरथ ने दोनों को मित्र बनाया. महाभारत में विराटनगर, रामायण में जनकपुर, बुद्ध काल में लुम्बिनी का ये संबंध युगों-युगों से चलता आ रहा है. नेपाल और भारत आस्था की भाषा से बंधे हुए हैं. PM ने कहा कि हमारी माता, आस्था, प्रकृति, संस्कृति सब एक हैं. उन्होंने कहा कि मां जानकी के बिना अयोध्या भी अधूरी है. मित्रता का बंधन मुझे यहां खींच कर ले आया है. नेपाल के बिना भारत का इतिहास-विश्वास अधूरा है. नेपाल के बिना हमारे धाम भी अधूरे हैं और हमारे राम भी अधूरे हैं. 

PM ने जनसभा में इन चौपाइयों को सुनाया...

जे न मित्र दुख होहिं दुखारी। तिन्हहि बिलोकत पातक भारी॥ निज दुख गिरि सम रज करि जाना। मित्रक दुख रज मेरु समाना॥

PM मोदी ने कहा कि भारत दशकों से नेपाल का एक स्थाई विकास साझेदार है, नेपाल हमारी 'Neighbourhood First' policy में सबसे पहले आता है. विकास की पहली शर्त होती है लोकतंत्र, मुझे खुशी है कि लोकतांत्रिक प्रणाली को आप मजबूती दे रहे हैं. हाल में ही आपके यहां चुनाव हुए, आपने एक नई सरकार चुनी है. अपनी आशांओं आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए आपने जनादेश दिया है. कल भी पीएम मोदी नेपाल में विभिन्न समारोहों में शिरकत करेंगे.

पीएम ने किया अयोध्या-जनकपुर बस सेवा का एलान

नेपाल के जनकपुर पहुंचे पीएम मोदी

आज से पीएम मोदी नेपाल दौरे पर

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -