आज से शुरू हो गया पितृपक्ष, जानिए कौन होते हैं पितृ

Sep 13 2019 04:00 PM
आज से शुरू हो गया पितृपक्ष, जानिए कौन होते हैं पितृ

आज से पितृपक्ष शुरू हो गया है. ऐसे में पितृपक्ष पूर्णिमा के साथ शुरू होकर 16 दिनों के बाद सर्व पितृ अमावस्या के दिन समाप्त होगा है. वहीं इन 16 दिनों में हिंदू धर्म को मानने वाले लोग अपने पितरों को याद करके उनका श्राद्ध करते हैं और पितरों को मुक्ति और उन्हें ऊर्जा देने के लिए श्राद्ध कर्म किये जाते है. इसी के साथ आपको पता ही होगा कि इस बार पितृपक्ष 13 सितंबर से शुरू हो रहा है जो 28 सितंबर तक चलने वाला है. वहीं आज हम आपको बताने जा रहे हैं कौन कहलाते हैं पितृ.

कौन कहलाते हैं पितृ- ऐसे व्यक्ति जो धरती पर जन्म लेने के बाद जीवित नहीं है, उन्हें पितर कहते हैं. इसी के साथ फिर वह विवाहित हों, अविवाहित हों, बुजुर्ग हों, स्त्री हो या पुरुष अगर उनकी मृत्यु हो चुकी है, तो उन्हें पितर कहा जाता है. कहते हैं पितरों की आत्मा की शांति के लिए भाद्रपद महीने के पितृपक्ष में उनको तर्पण दिया जाता है और इस साल पितृपक्ष 13 सितंबर से शुरू हो रहे हैं। इसी के साथ ऐसी मान्यता है कि इन दिनों में हमारे पितर पितृलोक से पृथ्वीलोक पर आते हैं और हर महीने की अमावस्या को श्राद्ध कर्म करते हैं, लेकिन भाद्रपद मास की पूर्णिमा से लेकर आश्विन मास की अमावस्या तक पूरा पखवाड़ा श्राद्ध कर्म करने का विधान है।

इसी के साथ पितृपक्ष 13 से शुरू होकर 28 सितंबर को पितृविसर्जन के साथ समाप्त होगा और पिता के लिए अष्टमी तो माता के लिये नवमी की तिथि श्राद्ध करने के लिये उपयुक्त मानी जाती है. इसी के साथ श्राद्ध में ब्राह्मण को भोजन जरूर करवाना चाहिए. हम आपको बता दें कि इस बार 14 को प्रतिपदा और 15 सितम्बर को द्वितीया का श्राद्ध होगा और 28 सितम्बर को सर्व पितृ अमावस्या का श्राद्ध होगा और 16 को मध्याह्न तिथि न मिलने के कारण श्राद्ध नहीं होगा. वहीं पितृपक्ष का मान प्रतिपदा से अमावस्या तक है और इस बार दशमी और एकादशी तिथि का श्राद्ध एक ही दिन होगा.

हर दिन माँ लक्ष्मी को चढ़ाए यह फूल, धन से भर जाएगा भंडार

अगर आपको भी आता है बहुत ज्यादा गुस्सा तो रहे इस रंग से दूर

घर में आज ही ले आए फेंग्शुई तितलियाँ, मिलेगा मनचाहा साथी