पितृपक्ष में गर्भवती महिलाए भूल से भी न करें यह काम

Sep 14 2019 04:40 PM
पितृपक्ष में गर्भवती महिलाए भूल से भी न करें यह काम

आप जानते ही हैं कि हिंदू धर्म को में बहुत सी बातों को त्योहारों को शुभ माना जाता है. ऐसे में इस ​धर्म में पुराणों से लेकर उपनिषदों तक में गर्भधारण से लेकर मृत्योंपरांत तक कई तरह के संस्कारों के बारे में बताया गया हैं इन्हीं संस्कारों में से एक संस्कार हैं पितृ पक्ष. जी हाँ, आपको बता दें कि इस साल पितृ पक्ष की शुरूआत 13 सितंबर से हो चुकी है और इस दौरान मनुष्य अपने पितरों को तर्पण देने के साथ उनका श्राद्ध भी करता हैं. ऐसे में श्राद्ध के समय गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ खास नियम बताएं गए हैं और इनका पालन न करने पर महिला के बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ जाता हैं.

ऐसी मान्यता है कि पितृ पक्ष के दौरान पितरों के साथ साथ बुरी आत्माएं भी धरती पर आ जाती हैं जिनका गलत असर गर्भवती महिला के होने वाले बच्चे पर भी पड़ जाता हैं. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि वो कौन से कार्य हैं जिन्हें गर्भवती महिला को पितृपक्ष के दौरान भूलकर भी नहीं करना चाहिए. आइए बताते हैं. कहते हैं पितृपक्ष पर गर्भवती महिलाएं किसी एकांत स्थान या फिर जंगल की ओर भूलकर भी नहीं जाए तो ही शुभ होगा. जी दरअसल ऐसी जगहों पर नकारात्मक शक्तियों का वास होता हैं, जो गर्भवती महिला और उसके बच्चे की सेहत पर बुरा प्रभाव डाल सकता हैं.

इसी के साथ पितृपक्ष के दौरान गर्भवती महिलाओं के शमशान घाट के पास जाने की भी मनाही होती हैं क्योंकि इस समय पितरों के साथ वहां पर कई बुरी आत्माएं भी मौजूद रहती हैं जो गर्भ में पल रहे शिशु और माता पर अना बुरा प्रभाव डालती है

शनिवार के दिन सुबह-सुबह करें हनुमान लला की यह आरती

आज घरों में होगा भूतों-प्रेतों का तांडव, भयावह है आज की रात

अगर आपको भी आता है बहुत ज्यादा गुस्सा तो रहे इस रंग से दूर