आज है फुलैरा दूज, ऐसे करें श्री कृष्णा और राधा माँ की पूजा

आप सभी को बता दें कि फाल्गुन माह में शुक्ल पक्ष द्वितीया तिथि को फुलैरा दूज का त्योहार मनाते है और ऐसे में इस दिन वृंदावन और मथुरा में श्रीराधा-कृष्ण के मंदिरों में विशेष उत्सव मनाया जाता है. आप सभी को बता दें कि लोग इस दिन फूलों की होली खेलते हैं और इस दिन श्रीराधा-कृष्ण की पूजा करते है. ऐसा कहा जाता है जिनकी कुंडली में प्रेम का अभाव हो, उन्हें इस दिन श्रीराधा-कृष्ण की पूजा करनी चाहिए और वैवाहिक जीवन की समस्याएं दूर करने के लिए इस दिन श्रीराधा-कृष्ण की पूजा की जाती है. इसी के साथ ऐसी मान्यता भी है कि इस दिन में साक्षात भगवान श्रीकृष्ण का अंश होता है और इस दिन श्रीराधा-कृष्ण की पूजा करने से सारी मनोकानाएं पूरी हो जाती हैं.

कहते हैं राधे-कृष्ण को अबीर और गुलाल भी चढ़ाया जाता है इसी दिन और श्रद्धा से श्रीराधा-कृष्ण की उपासना करने से जीवन में प्रेम और खुशियां आती हैं. इसी के साथ इस दिन पकवान तैयार किए जाते हैं और सबसे पहले इनका भोग श्रीराधा-कृष्ण को लगाया जाता है और फिर भक्तों को प्रसाद के रूप में दिया जाता है. कहते हैं फुलैरा दूज फाल्गुन माह का सर्वश्रेष्ठ दिन होता है और इस दिन को विवाह के लिए सबसे दिन उत्तम माना जाता है. कहते हैं इस दिन अबूझ मुहूर्त बनता है यानी बिना पत्रा देखे इस दिन पर कोई भी मांगलिक कार्य संपन्न किया जा सकता है और फुलैरा दूज से ही होली के रंग में सराबोर होने का दिन शुरू करते हैं.

इसी के साथ फुलैरा दूज पर घरों को फूलों और रंगोली से सजाते हैं और यह पर्व होली का त्योहार आने की खुशी में मनाया जाता है. ऐसे में फूलों का त्योहार होने के कारण इसे फुलैरा दूज कहते हैं.

इस त्यौहार से शुरू होता है होली का आरम्भ

पति-पत्नी जरूर करें फुलैरा दूज पर श्री कृष्णा और राधा की पूजा

8 मार्च को है फुलैरा दूज, जानिए क्या है मनाने की विधि

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -