शराब न पीने वाले लोगों को भी हो सकती है लिवर से जुड़ी समस्याएं, ऐसे करें बचाव

शराब न पीने वाले लोगों को भी हो सकती है लिवर से जुड़ी समस्याएं, ऐसे करें बचाव
Share:

समकालीन समय में, हमारी आधुनिक जीवनशैली और खान-पान की आदतों ने हमारे स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालना शुरू कर दिया है, जिसमें हमारा लीवर भी शामिल है। लीवर, हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है, जो हम जो खाते हैं, उससे सीधे प्रभावित होता है। बहुत से लोग गलती से मानते हैं कि लीवर की बीमारियाँ केवल शराब के सेवन के कारण होती हैं, लेकिन गलत खान-पान से भी लीवर खराब हो सकता है। आइए विशेषज्ञों द्वारा बताए गए लीवर रोगों से संबंधित लक्षणों, कारणों और निवारक उपायों पर गहराई से विचार करें।

लीवर खराब होने के लक्षण:
लीवर से संबंधित बीमारियों के लिए अक्सर शराब का सेवन जिम्मेदार माना जाता है, लेकिन मोटापा, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी जैसे कारक भी लीवर की विफलता में योगदान कर सकते हैं। इसके अलावा, गलत खान-पान की आदतें और जीवनशैली के विकल्प व्यक्तियों में लीवर की क्षति के लक्षण प्रकट कर सकते हैं। उच्च वसा वाले आहार, चीनी का सेवन और गतिहीन जीवनशैली को आमतौर पर लीवर की बीमारी के लिए जिम्मेदार माना जाता है। यहाँ लीवर की क्षति से जुड़े कुछ लक्षण दिए गए हैं:

मतली और उल्टी
अकारण वजन घटना
थकान और कमज़ोरी
पीलिया (त्वचा और आँखों का पीला पड़ना)
त्वचा पर खुजली महसूस होना
त्वचा का सूखापन और खुरदरापन
पेट में तरल पदार्थ का जमा होना

लीवर की क्षति के कारण:
यद्यपि कोई व्यक्ति शराब का सेवन करने से परहेज़ करता है, फिर भी कई अन्य कारक लीवर की क्षति का कारण बन सकते हैं। शराब के अलावा, कई अन्य कारण भी लीवर की क्षति में योगदान करते हैं:

मोटापा, मधुमेह और उच्च कोलेस्ट्रॉल का स्तर
संतृप्त वसा अम्ल और लाल मांस का सेवन
फ्रुक्टोज़ और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों (शीतल पेय, सिरप, सॉस, ऊर्जा बार, केक, आदि) का अत्यधिक सेवन
व्यायाम की कमी या शारीरिक निष्क्रियता

गैर-अल्कोहलिक लीवर रोगों के लिए निवारक उपाय:
अक्सर, लीवर की बीमारियों को रोकने के लिए शराब के सेवन से परहेज़ करने की सलाह दी जाती है। हालाँकि, कुछ व्यक्ति जो कभी शराब का सेवन नहीं करते हैं, उनमें भी लीवर की क्षति के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। ऐसे मामलों में, लीवर की क्षति के अन्य कारणों पर ध्यान दिया जाता है। यहाँ कुछ निवारक उपाय दिए गए हैं जिन्हें व्यक्ति अपने लीवर के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए अपना सकते हैं:

जटिल कार्बोहाइड्रेट (साबुत अनाज, सब्जियाँ और फलियाँ) का सेवन बढ़ाएँ।

दूध और चीनी जैसे सामान्य कार्बोहाइड्रेट का सेवन सीमित करें।

अपने आहार में खाना पकाने के तेल और घी (स्पष्ट मक्खन) का उपयोग सीमित करें। संतृप्त वसा से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें।

अपने आहार में विभिन्न दालों को शामिल करें क्योंकि वे प्रोटीन से भरपूर होती हैं।

अपने भोजन में विभिन्न प्रकार के रंग-बिरंगे फल और सब्जियाँ शामिल करें।

इसके अतिरिक्त, आंवला, हल्दी और अखरोट का सेवन लीवर के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है।

प्रीबायोटिक्स और प्रोबायोटिक्स से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

अपनी दिनचर्या में कम से कम 30 मिनट पैदल चलना, तैरना या साइकिल चलाना शामिल करें।

सप्ताह में दो बार कम से कम 60 मिनट व्यायाम करें।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि लीवर की बीमारियाँ केवल शराब पीने वालों तक ही सीमित नहीं हैं। खराब जीवनशैली भी लीवर की दुर्बलता में महत्वपूर्ण योगदान देती है। इसलिए, लीवर के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आहार और जीवनशैली दोनों पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष के तौर पर, आधुनिक जीवनशैली के कारण लीवर से जुड़ी बीमारियों के बढ़ते मामलों को देखते हुए, सूचित आहार विकल्पों और नियमित शारीरिक गतिविधि के माध्यम से लीवर के स्वास्थ्य को प्राथमिकता देना अनिवार्य है। संतुलित आहार अपनाकर, हानिकारक आदतों से बचकर और शारीरिक रूप से सक्रिय रहकर, व्यक्ति लीवर की बीमारियों के जोखिम को काफी हद तक कम कर सकते हैं और स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

यह बीमारी पेट में सामान्य भोजन को शराब में बदल देती है और व्यक्ति नशे में नाचने लगता है

क्या केराटिन हेयर ट्रीटमेंट लेना सही है? जानिए इसके प्रभावों के बारे में

जीने का यह तरीका आपको उम्र से पहले बूढ़ा बना देता है, आपको भी नहीं करनी चाहिए ऐसी गलती

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -