नोटबंदी पर सर्वे: परेशानी के बाद भी सरकार का समर्थन

Nov 20 2016 11:32 AM
नोटबंदी पर सर्वे: परेशानी के बाद भी सरकार का समर्थन

नई दिल्ली : भले ही जनता 500 रूपए और 1000 रूपए के नोट को बंद किए जाने के चलते नकदी जमा करने, आहरण करने और नोट बदलने की कतार मेें लगे रहते हैं लेकिन इसके बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा लिए गए इस तरह के निर्णय का जनता ने समर्थन किया है। सर्वे के लिए 200 शहरों के लगभग 10 हजार लोगों से सवाल किए गए थे।

इस तरह के सर्वे में यह बात सामने आई है कि देश में नोटबंदी के चलते जो परेशानियां हो रही हैं और जिस तरह की असुविधाऐं व उत्पादकता में कमी हो रही है उसके बाद भी लोग सरकार का समर्थन करने में लगे हैं। इस मामले में नागरिक संविद मंच लोकलसर्किल्स के सर्वेक्षण द्वारा कलेक्ट किए गए आंकड़ों में जानकारी सामने आई है कि 79 प्रतिशत लोगों द्वारा नोटबंदी का समर्थन किया गया है।

इतना ही नहीं 3 प्रतिशत लोगों द्वारा इस मामले में विरोध किया गया है। दूसरी ओर 18 प्रतिशत लोगों ने इस पहल का समर्थन करते हुए इससे होने वाली असुविधा और परेशानियों पर नाराजगी जताई। जो परेशानियां इन लोगों को हो रही हैं उस पर इन लोगों ने नाराजगी जाहिर की है।

मजदूर के खाते में जमा हो गये 99 अरब

यदि दिया आपने साथ तो फंसेंगे आप

हजारीबाग से मिला 23 लाख का कालाधन