E Cigarette से अब तक हो चुकी हैं इतनी मौतें, जानें क्या कहते हैं चिकित्सक

Sep 09 2019 05:00 PM
E Cigarette से अब तक हो चुकी हैं इतनी मौतें, जानें क्या कहते हैं चिकित्सक

2003 में चीन में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट का आविष्कार किया गया था। सामान्य सिगरेट के विपरीत, जहां खुली आग में तंबाकू जलता है, यह उपकरण एक तरल पदार्थ को गर्म करता है, और इसमें धूम्रपान करने वाला स्मोकिंग न करते हुए वेप (Vape) करता है। इसलिए इसका दूसरा नाम - Vape और धूम्रपान करने के इस तरीके को वेपिंग कहते है। इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एक बैटरी से चलने वाला उपकरण है जिसका कार्य कैप्सूल में रखे रासायनिक मिश्रण को वाष्पीकृत करना है और उस भाप को उपयोगकर्ता या वेपर (Vaper) तक पहुंचाना होता है। ई सिगरेट युवाओं में आजकल काफी चलन में है। 

ई सिगरेट के दुष्प्रभाव

* इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट, जिनमे निकोटीन युक्त तरल पदार्थ का उपयोग करा जाता हैं, वे भी एक नियमित सिगरेट की तरह ही निकोटीन रिलीज़ करते हैं। आपको बता दें की, निकोटीन एक अत्यधिक नशीला पदार्थ है।

* इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के निर्माताओं ने 'वेपिंग' शब्द को अपनाया है। वास्तव में, मानव शरीर एक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के लिए भी उसी तरह से प्रतिक्रिया करता है जैसे कि एक नियमित सिगरेट के लिए।

* पशु परीक्षणों के आधार पर, यह पाया गया कि गर्भावस्था के दौरान इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग से भी एक रेगुलर सिगरेट के समान ही भ्रूण पर प्रभाव पड़ता है। इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग से बच्चे के वजन और उसके फेफड़े और मस्तिष्क के विकास दोनों प्रभावित होते हैं।

* इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग से साँस लेने में कठिनाई, श्वसन नाली में सूजन और वायरस का विरोध करने के वाले प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता भी कम होती है।

ई सिगरेट की वजह से हुई मौत

अमेरिका के इलिनोइस (Illinois) राज्य में फेफड़ों की बीमारी से मौत का पहला मामला सामने आया था जो इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पीने के कारण हुआ था। इलिनोइस डिपार्टमेंट ऑफ पब्लिक हेल्थ (IDPH) के अनुसार, रोगी की मृत्यु धूम्रपान की वजह से गंभीर सांस की बीमारी के वजह से हुयी। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने कहा कि पिछले दो महीनों में, 22 राज्यों में इसी तरह की बीमारियों के 193 मामले सामने आए हैं। जिसमे की 17 से 38 वर्ष की आयु के कुल 22 लोगों को इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट या वेपिंग का उपयोग करने के बाद सांस की बीमारी थी। 

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पीने वाले सभी रोगियों को खांसी, सांस की तकलीफ और सामान्य कमजोरी का अनुभव हुआ। इसके अलावा, कुछ को दस्त और उल्टी की भी शिकायत हुयी। कई गंभीर मामलों में, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट ने लोगों के फेफड़ों को भी नुकसान पहुंचाया है।

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निर्माताओं द्वारा यह दावा किया जाता रहा हो कि ये तकनीक नियमित धूम्रपान से अधिक सुरक्षित हैं। लेकिन यह बिलकुल भी सच नहीं है। फ़िलहाल ऐसा कोई उच्च गुणवत्ता वाला स्वतंत्र अध्ययन नहीं हैं जो इस कथन का समर्थन करें।

ई सिगरेट के बारे में डॉक्टर क्या कहते हैं 

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, नियमित धूम्रपान करने वालों की तुलना में वेप करने वालों में कैंसर होने के खतरा कम होता है। और यूके के स्वास्थ्य विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट उन लोगों के लिए धूम्रपान छोड़ने का सबसे प्रभावी तरीका है जो इस लत से छुटकारा पाना चाहते हैं। हालाँकि, WHO के एक विशेषज्ञ के अनुसार, सबसे सुरक्षित चीज धूम्रपान पूरी तरह से छोड़ देना है। लेकिन अगर कोई व्यक्ति धूम्रपान छोड़ने में सक्षम नहीं है और नशे की लत का मुकाबला करने का एक तरीका चुनता है, तो वैज्ञानिक सबूत स्पष्ट रूप से दिखाते हैं कि इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एक नियमित सिगरेट से
कम खतरनाक हैं। इसका मतलब नहीं है की, इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट आपकी सेहत के लिए सुरक्षित है। यह सिगरेट भी आपकी सेहत पर वैसा ही असर डालती है जैसा की एक रेगुलर सिगरेट। 

नियमित सिगरेट की तरह वेप में साइकोएक्टिव पदार्थ (निकोटीन) होते हैं, जिसका अर्थ है कि इसका उपयोग करने वाले नशे की गिरफ्त में हैं, और यह केवल एक मनोवैज्ञानिक पहलू नहीं है। यही कारण है कि धूम्रपान के खिलाफ लड़ाई में इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट बेकार हैं, विश्व स्वास्थ्य संगठन और अमेरिकी राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के विशेषज्ञ के द्वारा यह सुनिश्चित भी किया गया है। 

इसके अलावा, एन।एन। बर्डेनको के नाम पर वोरोनिश स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों के एक अध्ययन के अनुसार, जो लोग वेप करते हैं, उनमें अक्सर धूम्रपान करने वालों के तुलना में निकोटीन की लत का लेवल बहुत
ज्यादा होता हैं।

वेपिंग के दौरान लिया हुआ धुंआ मानव डीएनए को काफी हद्द तक नुकसान पहुँचाता है, जो किसी दिन  कैंसर से मरने का खतरा बढ़ाता है। वहीँ दूसरी ओर, वेपिंग से प्रतिरक्षा गंभीर रूप से प्रभावित होती है - इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट, विशेष रूप से सुगंधित योजक (aromatic additives) के साथ, मोनोसाइट्स के लिए हानिकारक हैं।

रोचेस्टर विश्वविद्यालय (University of Rochester) (यूएसए) के शोधकर्ताओं के प्रयोगों में, प्रतिरक्षा प्रणाली की इन सबसे महत्वपूर्ण कोशिकाओं ने मरने वाले कई सिग्नलिंग अणुओं को बाहर निकाल दिया, जिसके कारण, फेफड़ों में कई तरह के इन्फेक्शन्स होने लगे।

जानें क्या होती है ई-सिगरेट, हृदय के लिए कैसे है घातक

ई-सिगरेट महिलाओं को बना सकता है बाँझ, जानें रिसर्च