जूनियर डाक्टरों की हड़ताल से मरीज परेशान

पटना: डाक्टरों और मरीजों के परिजनों के बीच हुए विवाद के बाद तीन दिन से हड़ताल कर रहे जूनियर डाक्टरों के कारण पटना के सबसे बड़े पीएमसीएच अस्पताल में स्तिथि चिंताजनक हो गई है|

इलाज के अभाव में अब-तक 9 मरीजों की मौत हो चुकी है. हालात की गंभीरता को देखते हुए राज्य मानवाधिकार आयोग ने स्वतः संज्ञान लिया है. स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव की अपील का भी डाक्टरों पर कोई असर नहीं हो रहा है|

मीडिया से मिली खबरों के अनुसार इमरजेंसी वार्ड में एक बुजुर्ग की मौत हो गई. परिजनों ने आक्सीजन के अभाव का आरोप लगाया. इलाज के अभाव में  मरीज गंभीर हालत में तडप रहे हैं. मंगलवार की सुबह जहानाबाद जिले से आए एक 17 साल के हेपेटाईटीज बी के मरीज की मौत हो गई. वह 6 दिन से यहाँ भर्ती था|

अस्पताल में अफरा तफरी का माहौल है. कई मरीज निजी अस्पताल का रुख कर रहे हैं. मरीजों के परिजनों को खुद स्ट्रेचर लाना पड रहा है. गर्मी के मारे सभी परेशान हो रहे हैं. मरीजों के परिजनों द्वारा धरना-प्रदर्शन के बाद भी डाक्टरों का दिल नहीं पसीजा है. पीजी डाक्टरों ने वार्डों में घूम घूम कर काम बंद कराया है|

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -