पासवान के दामाद ने किया बगावत का ऐलान, टिकट से रहे वंचित

By Sandeep Meena
Sep 19 2015 11:18 PM
पासवान के दामाद ने किया बगावत का ऐलान, टिकट से रहे वंचित

पटना: बिहार चुनाव को लेकर लगभग सभी दल तैयारियों में जुट गए है। कही चुनाव प्रचार की योजनाये चल रही है तो कोई दल अपने उम्मीदवार उतारने की तैयारी कर रहा है। चुनावी घमासान में टिकिट मिलने को लेकर भी कड़ा संघर्ष हो रहा है। लोजपा अध्यक्ष रामविलास पासवान के जमाई राजा अनिल कुमार साधू बिहार विधानसभा चुनाव के टिकट से वंचित रह गए है जिसके कारण वह बगावत पर उत्तर आए है।

उन्होंने शनिवार को राजग उम्मीदवारों को पछाड़ने के लिए अपने सभी जिलों में दलित सेना के कैंडिडेड को उतारने का ऐलान कर दिया है। इधर दलित सेना के अध्यक्ष साधू ने दलित सेना के सभी जिलाध्यक्षों से मीटिंग की है। मीटिंग में पार्टी में टिकट के बंटवारे के तरीके के खिलाफ विरोध जताने के लिए रविवार को रामविलास पासवान का पुतला दहन करने का फैसला किया गया। दलित सेना समाज के कमजोर तबके के लोगों का एक संगठन है जिसे रामविलास पासवान ने शुरू किया था। साधू औरंगाबाद जिले में सुरक्षित सीट कुटुंबा से चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन वह सीट पूर्व मुख्यमंत्री और हम के संस्थापक जीतन राम मांझी के पुत्र संतोष कुमार सुमन को आवंटित कर दी गई।

साधू ने कहा कि उन्हें टिकट नहीं दिया गया लेकिन रामविलास पासवान के छोटे भाई पशुपति कुमार पारस और लोजपा प्रमुख के एक अन्य भाई रामचंद्र पासवान के बेटे प्रिंस राज को टिकट दे दिया गया। हाल ही में बिहार चुनाव को लेकर राहुल गांधी ने एक रैली की जिसमे महागठबंधन लालू और नितीश कुमार कन्नी काटते हुए नज़र आए है। महागठबंधन को मुलायम सिंह के रूप में एक बड़ा झटका मिला है। इधर भाजपा ने भी इस अपने प्रयास तेज कर दिए है।