आंध्र प्रदेश के हवाले होंगे पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन के अहम् दस्तावेज

हैदराबाद : भारत के पूर्व राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन का पासपोर्ट और कुछ अन्य महत्वपूर्ण दस्तावेज तेलंगाना सरकार, आंध्र प्रदेश सरकार को सौंपने जा रही है। भारत के दूसरे राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन अपने दर्शनशास्त्र के लिए मशहूर हैं। अफसरों का कहना है शिफ्टिंग के दौरान पासपोर्ट और अन्य मिलाकर 5.2 करोड़ दस्तावेज हैं जिन्हें 20 ट्रकों में भेजा जा रहा है। 

नेशनल इंस्टीट्युट ऑफ ओशियनोग्राफी में वैकेंसी, जल्द से जल्द करें अप्लाई

दिलचस्प बात यह है कि यह दूसरा अवसर है जब पूर्व राष्ट्रपति राधाकृष्णन का पासपोर्ट स्थानांतरित किया जा रहा है। पूर्व राष्ट्रपति राधाकृष्णन का परिवार मूलरूप से आंध्र प्रदेश के नेल्लोर से ताल्लुक रखता है। राधाकृष्णन का जन्म तिरूट्टनी (मद्रास प्रेसीडेंसी) में हुआ था ये स्थान अब तमिलनाडू में है। 1953 में पूर्व राष्ट्रपति राधाकृष्णन का पासपोर्ट मंद्रास प्रेसीडेंसी से आंध्र प्रदेश स्थानांतरित किया गया था। राधाकृष्णन को पहली दफा ब्रिटिश-इंडिया के वक़्त 1926 में पासपोर्ट मिला था।

हैदराबाद एयरपोर्ट पर हाई अलर्ट, यात्रियों की ली जा रही गहन तलाशी

आपको बता दें कि राज्य के बंटवारे के कारण देश के पूर्व राष्ट्रपति का पासपोर्ट दूसरी दफा एक राज्य से दूसरे राज्य को हस्तांतरित किया जा रहा है।  1953 में आंध्र प्रदेश मद्रास प्रसिडेंसी से पृथक होने के बाद उनका पुराना पासपोर्ट आंध्र प्रदेश पहुंचा दिया गया था। किन्तु बाद में उनका यह पासपोर्ट 1956 में हैदराबाद स्टेट के अंतर्गत तेलुगु भाषी प्रदेशों तेलंगाना और आंध्र प्रदेश का विलय कर बनाए गए एकीकृत आंध्र प्रदेश का अंग बना।

खबरें और भी:-

इस प्रदेश में दो रुपये तक महंगा हुआ सब्सिडी वाला घरेलू गैस सिलिंडर

पिछले सप्ताह के मुकाबले इस सप्ताह कुछ ऐसा रहा बाजार का हाल

फरवरी में रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ा जीएसटी का संग्रहण

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -