संसद सत्र: वापस हो सकता है 12 सांसदों का निलंबन, लेकिन माननी होगी ये शर्त

नई दिल्ली: संसद का शीतकालीन सत्र आरंभ हो चुका है. इस सत्र की कार्यवाही से 12 सासदों को उच्च सदन से निलंबित कर दिया गया. इन सांसदों पर मॉनसून सत्र में हंगामा करने को लेकर ये एक्शन लिया गया है. किन्तु अब ऐसा माना जा रहा है कि सांसदों का निलंबन वापस हो सकता है. हालांकि, इसके लिए निलंबित सांसदों को अपने व्यव्हार के लिए माफी मांगनी होगी. 

दरअसल, 11 अगस्त को मॉनसून सत्र के दौरान राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ था, जिसके चलते सदन की कार्यवाही प्रभावित हुई थी. इसे लेकर 12 सांसदों को पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया है. यानी ये सांसद सदन की कार्यवाही में हिस्सा नहीं ले सकेंगे. जिन सांसदों को निलंबित किया गया है, उनमें कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, शिवसेना, CPI और CPM के सांसद शामिल हैं. सूत्रों के अनुसार, यदि सांसद अपने बर्ताव के लिए माफी मांग लेते हैं, तो उनका निलंबन वापस हो सकता है. हालांकि, इसके लिए विपक्ष को पेशकश करनी होगी. यदि विपक्ष पेशकश करता है, तो सरकार इस संबंध में विचार करेगी. हालांकि, बताया जा रहा है कि विपक्ष इस मुद्दे पर एकमत नहीं है. यहां तक की TMC भी कांग्रेस के साथ नहीं हैं. 

वहीं, राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने आज 10 बजे विपक्षी दलों की मीटिंग बुलाई है. इस बैठक में सांसदों के निलंबन और आगे की रणनीति पर विचार-विमर्श होगा. विपक्ष ने सोमवार को सांसदों के निलंबन को लेकर एक संयुक्त वक्तव्य भी जारी किया था. बता दें कि जिन सांसदों को निलंबित किया गया है, उनमे CPM से एलामरम करीम, कांग्रेस से छाया वर्मा, रिपुन बोरा, राजामणि पटेल, सैयद नासिर हुसैन, अखिलेश प्रसाद सिंह, CPI से बिनय विश्वम, TMC से डोला सेन, शांता छेत्री और शिवसेना से प्रियंका चतुर्वेदी तथा अनिल देसाई का नाम शामिल है.

वाजिद अली शाह प्राणी उद्यान के 100 वर्ष हुए पूरे, समरोह में पहुंचकर सीएम योगी ने की इनसे मुलाकात

केरल में राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव

CM योगी ने किया एथनॉल प्लांट का शिलान्यास, किसानों की तरक्की होगी, रोज़गार भी मिलेगा

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -