राहुल गाँधी पर लगा गंभीर आरोप, लेकिन चुप है आडवाणी की अगुवाई वाली समिति

राहुल गाँधी पर लगा गंभीर आरोप, लेकिन चुप है आडवाणी की अगुवाई वाली समिति

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठतम नेता लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व वाली लोकसभा एथिक्स कमिटी पूरे कार्यकाल के दौरान निष्क्रिय बनी रही। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के विरुद्ध एक विवादास्पद शिकायत दर्ज होने के बाद भी इस कमिटी की बैठक नहीं हुई है। समिति के समक्ष राहुल गाँधी के ब्रिटेन की नागरिकता लेने के आरोप वाली शिकायत रखी गई थी।

कमलनाथ के करीबियों पर IT की दबिश, बचाने पहुंची मध्य प्रदेश पुलिस

इसके साथ ही संसद की स्टैंडिंग कमिटी ऑन एथिक्स ने नारदा स्टिंग में पकड़े गए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के पांच सांसदों के विरुद्ध सीपीआई (एम) की शिकायत पर भी विचार नहीं किया है। लोकसभा सांसदों के लिए आचार संहिता का मुद्दा भी समिति के पास लंबित पड़ा हुआ है। सूत्रों ने बताया है कि समिति ने राहुल की नागरिकता के मामले पर विचार नहीं किया और कुछ सदस्यों का कहना था कि इस मामले में कोई दम नहीं है।

लोकसभा चुनाव: आज भाजपा जारी करेगी घोषणापत्र, ये रहेंगे प्रमुख मुद्दे

समिति में शामिल सदस्यों ने प्रेस वालों से बात करते हुए बताया है कि बैठक बुलाने का निर्णय समिति के अध्यक्ष आडवाणी को करना था।  समिति की अंतिम बैठक 3 दिसंबर, 2015 को की गई थी। ईटी ने इस बारे में लोकसभा सेक्रेटरी जनरल, स्पीकर के कार्यालय और आडवाणी को सवाल भी भेजे थे, किन्तु अभी तक उनका जवाब नहीं आ पाया है। 

खबरें और भी:-

पाकिस्तान ने 100 भारतीय मछुआरों को किया रिहा

आतंकवाद को धन देने के मामले में मीरवाइज की पेशी आज, पाक से था सीधा सम्बन्ध

मेरे परिवार के लोग भी प्रधानमंत्री बने, लेकिन जो पीएम मोदी ने किया वो किसी ने नहीं - वरुण गाँधी