विद्यार्थियों से उनके अभिभावक करेंगे शराबबंदी का वायदा

पटना : लगता है बिहार में महागठबंधन सरकार शराबबंदी पर कार्य करने में जुट गई है जहां अवैध शराब के उत्पादन पर रोक हेतु नीतीश ने प्रयासों की बात कही है वहीं अब उन्होंने कहा है कि सरकार शराबमुक्ति को लेकर एक नया तरीका निकाल रही है। दरअसल इसके लिए शिक्षा विभाग का सहयोग लिया जाएगा। जिसके तहत प्राइमरी और सेकंडरी स्तर के विद्यालयों में अध्ययन करने वाले 73000 विद्यार्थियों के पिता से शपथ पत्र लेने का निर्णय भी लिया गया है।

दरअसल इस माध्यम से इन विद्यार्थियों के अभिभावकों से शराब न पीने का संकल्प भी लिया जाएगा। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस मामले में कहा कि जब अभिभावक अपने बच्चों से ही शराब छोड़ने का वादा करेंगे तो इसके परिणाम बेहद अच्छे होंगे। राज्य में शराब को प्रतिबंधित करने के लिए इसे एक प्रभावी कदम माना जा रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश ने एक सवाल के जवाब में कहा कि गुजरात में शराब की घर पहुंच सेवा दी जाती है इसलिए यह सिस्टम अधिक कारगर नहीं है।

यहां व्यपारियों को भी शराब घर तक पहुंचाना भी अधिक उचित लगता है। मध्यप्रदेश में शराब बिक्री इतनी अधिक होती है कि लोग इसे मद्यप्रदेश ही कहने लगे हैं। उनका कहना था बिहार में इस अभियान को पहले दिन से ही सफल नहीं माना जा सकता है लेकिन सरकार अपनी ओर से कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि यह निर्णय महिलाओं के सशक्तिकरण में एक बड़ा निर्णय होगा। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -