बाप को ज्ञान मत बाट

बाप को ज्ञान मत बाट

एक बार अरविन्द के पिता जी ने उसे थप्पड़ मार दिया।

अरविन्द जोर जोर से रोने लगा. तब उसके पिताजी ने उससे कहा सॉरी

अरविन्द ने एक लकड़ी ली और उसे अपने पिता जी से कहा इसे तोड़ दीजिये और इसे कहिये सॉरी

क्या वह पहले की तरह वापस आपस हो जाएगी।

पापा अरविन्द को बाहर ले गए और कहा यह मेरी बाइक है ,

इसे बिना किक मारे स्टार्ट करके दिखा।

नहीं हुई ना। यह किक मारने से ही स्टार्ट होगी।

कमीने तू भी इस बाइक की तरह ही है लकड़ी की तरह नहीं।

और हा ये तेरे ट्विटर और फेसबुक वाला ज्ञान अपने पास ही रख

अपने बाप को ज्ञान मत बात।