'पांडियन मेरे उत्तराधिकारी नहीं..', ओडिशा विधानसभा चुनाव में शिकस्त मिलने पर बोले पूर्व सीएम नवीन पटनायक

'पांडियन मेरे उत्तराधिकारी नहीं..', ओडिशा विधानसभा चुनाव में शिकस्त मिलने पर बोले पूर्व सीएम नवीन पटनायक
Share:

भुवनेश्वर: ओडिशा विधानसभा चुनाव के नतीजों के कुछ दिनों बाद राज्य के निवर्तमान मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने शनिवार को कहा कि बीजू जनता दल (BJD) नेता वीके पांडियन उनके "उत्तराधिकारी" नहीं हैं और उन्होंने कहा कि राज्य के लोग इस पर फैसला करेंगे। 2000 बैच के IAS अधिकारी पांडियन दो दशकों से अधिक समय तक पटनायक के निजी सचिव के रूप में काम कर चुके हैं। 2023 में नौकरशाही से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद वे BJD में शामिल हो गए थे।

ओडिशा के भुवनेश्वर में पत्रकारों से बातचीत में पटनायक ने कहा कि, "मैं यह कहना चाहूंगा कि पांडियन ने स्वास्थ्य, शिक्षा, खेल और मंदिर जीर्णोद्धार के हमारे कार्यक्रम में भी काम किया है और मदद की है। पांडियन पार्टी में शामिल हुए, लेकिन उन्हें कोई पद नहीं मिला। मैंने हमेशा स्पष्ट रूप से कहा है कि जब उन्होंने मुझसे मेरे उत्तराधिकारी के बारे में पूछा, तो मैंने स्पष्ट रूप से कहा कि यह पांडियन नहीं हैं। मैं इसे दोहराता हूं। ओडिशा के लोग मेरे उत्तराधिकारी का फैसला करेंगे।" 

उल्लेखनीय है कि, ओडिशा विधानसभा चुनाव में बीजू जनता दल को भारतीय जनता पार्टी के हाथों हार का सामना करना पड़ा है , जिससे नवीन पटनायक का 24 साल पुराना शासन खत्म हो गया है। पटनायक ने ओडिशा के लोगों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि, "मुझे बार-बार आशीर्वाद देने के लिए मैं ओडिशा के लोगों के प्रति गहरी कृतज्ञता दर्शाता हूँ। साथ ही, मुझे लगता है कि हमने हमेशा बेहतरीन काम करने की कोशिश की है और हमें अपनी सरकार और अपनी पार्टी पर गर्व करने के लिए बहुत कुछ है।" 

ओडिशा में बीजद की हार पर उन्होंने कहा कि, "यह लोगों के हाथ में है। लोकतंत्र में, आप या तो जीतते हैं या हारते हैं। लंबे समय के बाद हारने के बाद, हमें हमेशा लोगों के फैसले को शालीनता से लेना चाहिए। मैंने हमेशा कहा है कि ओडिशा के साढ़े चार करोड़ लोग मेरा परिवार हैं और मैं उनकी हर संभव तरीके से सेवा करता रहूंगा।" उन्होंने कहा कि, "मेरे संज्ञान में यह भी आया है कि पांडियन की कुछ आलोचना हुई है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। एक अधिकारी के रूप में उन्होंने बेहतरीन काम किया। उन्होंने हमारे राज्य में दो चक्रवातों और कोविड-19 महामारी से निपटने में बेहतरीन काम किया। बाद में, वह नौकरशाही से सेवानिवृत्त हो गए और मेरी पार्टी में शामिल हो गए और उन्होंने बेहतरीन काम करके इसमें काफी योगदान दिया। वह एक ईमानदार व्यक्ति हैं और इसके लिए उनका सम्मान किया जाना चाहिए।" 

राज्य विधानसभा और संसदीय चुनावों में भारी हार के बाद, ओडिशा के सीएम और बीजेडी प्रमुख नवीन पटनायक का 24 साल पुराना कार्यकाल समाप्त हो गया, उन्होंने बुधवार को भुवनेश्वर में राजभवन में ओडिशा के राज्यपाल रघुबर दास को अपना इस्तीफा सौंप दिया। 1997 से ओडिशा पर शासन करने वाली बीजू जनता दल (BJD), भाजपा से हार गई, जिससे मुख्यमंत्री के रूप में नवीन पटनायक का 24 साल पुराना शासन टूट गया। 147 सीटों वाली विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी ने 78 सीटें हासिल कीं। BJD को 51 सीटें मिलीं, जो बहुमत के 74 के आंकड़े से काफी पीछे है और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को 14 सीटें मिलीं। 2024 के लोकसभा चुनावों में भी भाजपा ने राज्य की 21 संसदीय सीटों में से 20 सीटें हासिल करके शानदार प्रदर्शन किया; शेष एक सीट कांग्रेस ने जीती।

'140 करोड़ देशवासियों की यही इच्छा, राहुल गांधी संभालें ये पद..', CWC मीटिंग में उठी बड़ी मांग

'ऊंट पहाड़ के नीचे आ गया है, एक साल में मध्यावधि चुनाव होंगे..', पीएम मोदी को लेकर भूपेश बघेल की भविष्यवाणी

'हरियाणा ने हमारा पानी रोक दिया..', दिल्ली में जल संकट के बीच मंत्री आतिशी का आरोप, लोगों में मचा हाहाकार

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -