ये है सबसे खतरनाक और जानलेवा कैंसर, पैरों में दिखते हैं ये घातक लक्षण

आप सभी जानते ही होंगे कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिसका परमानेंट इलाज नहीं है। जी हाँ और इस जानलेवा बीमारी से शरीर की कोशिकाएं नष्ट होने लगती हैं और फिर धीरे-धीरे ऑर्गन काम करना बंद कर देते हैं। हालाँकि अगर वक्त रहते इस बीमारी का पता चल जाए तो कैंसर का इलाज किया जा सकता है। जी हाँ, वैसे कैंसर कई प्रकार के होते हैं लेकिन इनमे पैंक्रियाटिक कैंसर काफी खतरनाक होता है। जी दरअसल हाल ही में एक्सपर्ट द्वारा पैंक्रियाटिक कैंसर जो पेट के निचले हिस्से (अग्न्याशय) के पीछे वाले अंग में होता है, उसके लक्षणों के बारे में बताया गया है। जी दरअसल एक्सपर्ट का कहना है कि पैंक्रियाज शरीर के काफी अंदर होता है इसलिए शुरुआत में इसका पता लगाना बेहद मुश्किल होता है और इसके लक्षण पैरों में भी दिखाई देते हैं, जिससे इस कैंसर का पता लगाया जा सकता है। 

पैंक्रियाटिक कैंसर के लक्षण- कैंसर सोसायटी के मुताबिक, पैंक्रियाटिक कैंसर में ऐसी क्षमता होती है जो खून को हाइपर-कॉग्युलेटिव स्टेज में पहुंचा देता है। जी हाँ और ये वो स्टेज होती है, जहां खून के थक्के जमने लगते हैं। जी दरअसल अगर किसी को यह कैंसर होता है तो उसके पैर में खून के थक्के दिखने लगते हैं और यह पैंक्रियाटिक कैंसर का पहला लक्षण हो सकता है। इसके अलावा नसों में खून का थक्का जमने की स्टेज को डीप वेन थ्राम्बोसिस (DVT) कहा जाता है।

जी दरअसल कैंसर सोसायटी के मुताबिक, कैंसर के लक्षणों में दर्द, सूजन, पैरों का लाल होना और पैरों का गर्म होना भी शामिल हो सकता है। वहीं कुछ मामलों में ब्लड क्लॉट लंग्स तक भी पहुंच सकते हैं, जिस कारण सांस लेने में कठिनाई हो सकती है। वहीं इस स्थिति को पल्मोनरी एंबॉलिज्म (PE) कहा जाता है और इससे मौत का जोखिम भी बढ़ सकता है। इसके अलावा अगर किसी के शरीर में खून के थक्के पाए जाते हैं तो इसका मतलब यह नहीं होगा कि उसे कैंसर ही है। जी दरअसल कई मामलों में खून के थक्के अन्य कारणों से होते हैं। हाल ही में हुई एक रिसर्च के मुताबिक, लगभग 70 प्रतिशत लोगों को यह नहीं पता कि उनके खून में थक्का जमा हुआ है। 

सबसे खतरनाक है पैंक्रियाटिक कैंसर- एक सर्वे के रिजल्ट से यह बात सामने आई है कि मरीजों में जागरुकता की कमी के कारण DVT का खतरा बढ़ रहा है। जी हाँ और पैंक्रियाटिक कैंसर का इलाज काफी मुश्किल है। DVT, पैंक्रियाटिक कैंसर को और भी खतरनाक बना देता है और इस बीमारी वाले सिर्फ 5 प्रतिशत मरीज ही जिंदा रहते हैं।

महिलाओं में बढ़ रहा स्‍तन-बच्‍चेदानी कैंसर, जानिए इनके शुरूआती लक्षण

शौच के समय दिखे यह संकेत तो हो सकता है कैंसर

छवि मित्तल ने दिखाया अपने कैंसर सर्जरी का निशान, देखकर चौंके फैंस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -