पाकिस्तान द्वारा विश्व व्यापार संगठन (डब्लूटीओ) की मदद लेने पर भारत का कड़ा विरोध

पाकिस्तान कश्मीर के बड़े भू-भाग में बनाने जाने वाले चीन पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरीडोर (सीपीईसी) में विश्व व्यापार संगठन (डब्लूटीओ) की मदद लेने की तैयारी कर रहा है. जिसका भारत द्वारा कड़ा विरोध किया गया है. 

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास के अनुसार पाकिस्तान दक्षिण एशिया में कई गैर व्यापारिक बाधाएं (एनटीबी) खड़ी कर रहा है. दरअसल भारत वाघा बॉर्डर से केवल 138 वस्तुओं का ही निर्यात कर सकता है. बाकि वस्तुएं कराची पोर्ट से निर्यात की जाती है. जिससे कीमतों में भारी इजाफा होता है.

इसी के साथ पाकिस्तान ने अब तक भारत को एमएफएन का दर्जा नहीं दिया है. जबकि भारत ने पाकिस्तान को 20 साल पहले ही यह दर्ज़ा दे दिया है. 2012 में पाकिस्तान सरकार ने भारत को एमएफएन दर्जा देने पर एक समिति गठित की थी. इसके बाद भी मामले में फैसला नहीं लिया जा सका था. 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -