कुलभूषण जाधव मामला: इंटरनेशनल कोर्ट का आदेश भी नहीं मान रहा पाक, फिर ICJ जाएगा भारत

इस्लामाबाद: अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के स्पष्ट निर्देश के बाद भी पाकिस्तान भारत को सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव से मिलने नहीं दे रहा है. वरिष्ठ वकील और इंटरनेशनल कोर्ट में भारत के पैरवीकार हरीश साल्वे का कहना है कि पाकिस्तान के रवैये के मद्देनज़र भारत को एक बार फिर से इंटरनेशनल कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा.

एक ऑनलाइन लेक्चर में सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले की जानकारी देते हुए हरीश साल्वे ने कहा कि पाकिस्तान ने इसे घमंड का मुद्दा बना लिया है. हमलोगों ने पाकिस्तान को कई पत्र लिखे हैं, वे हमेशा मना करते रहते हैं. हरीश साल्वे ने कहा कि, "मुझे लगता है कि हम उस स्थिति में पहुंच गए हैं, जहां हमें ये तय करना पड़ सकता है कि क्या हमें फिर से इंटरनेशनल कोर्ट जाना चाहिए ताकि एक बार फिर से पाकिस्तान को दिशा-निर्देश दिया जा सके, क्योंकि पाकिस्तान अदालत के पिछले आदेश पर एक कदम भी आगे नहीं बढ़ा है."

आपको बता दें कि पाकिस्तान ने जाधव पर जासूसी का बेबुनियाद और झूठा इल्जाम लगाया है. वहां की एक सैन्य अदालत ने (जिसका वजूद अब खत्म हो चुका है) कुलभूषण जाधव को सजा-ए-मौत सुनाई है. इस समय वे पाकिस्तान में कैद हैं. पाकिस्तान ने उन्हें अवैध तरीके से अरेस्ट किया है. भारत जब इसके खिलाफ इंटरनेशनल कोर्ट गया था, तो जुलाई 2019 में कोर्ट ने पाकिस्तान को कहा कि वो कोर्ट के फैसले पर प्रभावी रूप से पुनर्विचार करे और बगैर देर किए भारत को कुलभूषण जाधव से मिलने दे. लेकिन पाकिस्तान मान नहीं रहा है.

भारत के इस स्थान पर हुआ कोरोना का नया टेस्ट विकसित

केरल : जानिए राज्य में कोरोना को लेकर सरकार के नए दिशा-निर्देश

एक और को-ऑपरेटिव बैंक पर RBI का एक्शन, रद्द किया लाइसेंस

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -