लाहौर: अस्पताल के बाहर वकीलों का हिंसक प्रदर्शन, समय पर उपचार ना मिलने से तीन लोगों की मौत

लाहौर: अस्पताल के बाहर वकीलों का हिंसक प्रदर्शन, समय पर उपचार ना मिलने से तीन लोगों की मौत

लाहौर: पाकिस्तान के लाहौर के पंजाब इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी (PIC) के बाहर वकीलों द्वारा किए जा रहे उग्र विरोध प्रदर्शन की वजह से डॉक्टरों द्वारा वक़्त पर उपचार सुविधा देने में नाकाम रहने पर तीन मरीजों की मौत हो गई. स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, वकील मंगलवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो को लेकर ये प्रदर्शन कर रहे हैं. 

वीडियो में एक चिकित्सक कुछ वकीलों के एक समूह के सामने किसी एन्काउंटर का वर्णन करते दिख रहा है. वीडियो में दिखाई दे रहे डॉक्टर के मुताबिक, वकीलों का एक समूह पुलिस महानिरीक्षक के पास गया था और उन्हें एटीए की धारा 7 के अंतर्गत 'दो डॉक्टरों' पर चार्ज लगाने के लिए कह रहा था. डॉक्टर ने विस्तारपूर्वक बताया है कि आईजी ने चार्ज लगाने से इंकार कर दिया, किन्तु वकीलों का समूह उन पर ऐसा करने के लिए दबाव डालते नज़र आया.

इस वीडियो को लेकर पीआईसी के बाहर बुधवार से बड़ी तादाद में वकील एकत्रित हो गए. वहीं वकीलों ने प्रवेश द्वार और बाहर निकलने के दरवाजे को बंद कर दिया, जिससे विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया. स्वास्थ्य मंत्री यसमीन रसीदी ने बुधवार शाम को प्रेस वालों को बताया कि, "डॉक्टरों द्वारा वक़्त पर उपचार सुविधा न दे पाने और हिंसा को रोकने में बिजी रहने की वजह से एक बुजुर्ग महिला के साथ ही दो मरीजों की मौत हो गई." 

चीन के विश्वास को पहुंचा नुकसान, इस देश ने विरोध में किया बड़ा काम

मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद को जल्द मिल सकती है सजा, अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने डाला दबाव

हजारों लोगो की भीड़ पार्क में जमा हुई, आंदोलन के हिंसक स्वरूप में तब्दील होने...