चीन के सकारात्मक रुख से सकपकाया पाकिस्तान

नई दिल्ली - कहते हैं कि संवाद से कई समस्याएं हल की जा सकती है. ऐसा कुछ चीन के साथ की जा रही सकारत्मक वार्ता से लगने लगा है कि भारत -चीन के बीच जारी तल्खियां कम हो जाएंगी. लेकिन भारत और चीन की सकारात्मकता से पाकिस्तान जरूर सकपकाया गया है, क्योंकि यदि ऐसा हुआ तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसकी किरकिरी हो जाएगी.

बता दें कि अर्जेंटीना की अध्यतक्षता में बीजिंग में जब भारत और चीन ने जैसे ही एनएसजी के मुद्दे पर सकारात्मक और ठोस वार्ता करने की बात कही, वैसे ही इस्लामाबाद में उथल-पुथल शुरु हो गई. शायद पाकिस्तान को लगने लगा है कि यदि चीन ने भी भारत का साथ दे दिया तो वह पूरी दुनिया में अकेला पड़ जाएगा.

बताया जा रहा है कि इस बैठक के तुरंत बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ और सेना प्रमुख राहील शरीफ ने आपस में चर्चा की, फिर विदेश और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों ने बीजिंग में अपने संपर्कों से भी बातचीत की. खास बात तो यह है कि बीजिंग के सकारात्मक रुख से इस्लामाबाद को यह खतरा हो गया है कि वो भारत के सामने कमजोर पड़ जायेगा. इसके अलावा पहले से ही बहिष्कार जैसे हालातों का सामना कर रहे पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक और किरकिरी झेलनी पड़ेगी जो उसके हित में नहीं रहेगी.

द्विपक्षीय सम्बन्धों में करने सुधार, मिलेंगे भारत...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -