भारत के इस शख्स को मिला पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

Aug 14 2020 07:32 PM
भारत के इस शख्स को मिला पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

कश्मीर बनेगा पाक का नारा देने वाले वयोवृद्ध कट्टरपंथी सैयद अली शाह गिलानी को लेकर बड़ी खबर सामने आई है. जिसमें कट्टरपंथी सैयद अली शाह गिलानी को पाकिस्तान ने सबसे बड़े नागरिक सम्मान निशान-ए-पाकिस्तान से नवाजा है. गिलानी को शुक्रवार 14 अगस्त को निशान-ए-पाकिस्तान दिया गया. निशान-ए-पाकिस्तान पाक के स्वतंत्रता दिवस पर इस्लामाबाद में हुए कार्यक्रम में दिया गया. हालांकि, गिलानी इस सम्‍मान को लेने के लिए स्वंय प्रोग्राम में उपस्थित नहीं हुए.

भारतीय बाजार में आई कोरोना की सबसे सस्ती दवा, कीमत मात्र 33 रुपए

पाकिस्‍तान में हुए प्रोग्राम के दौरान पूर्व हुर्रियत नेता को यह सम्मान राष्ट्रपति आरिफ रिजवी ने दिया. स्थानीय हुर्रियत नेताओं ने गिलानी की स्थान यह सम्मान लिया. बता दें कि कुछ दिनों पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गिलानी को यह सम्‍मान देने का एलान किया था. सिर्फ यही नहीं, इस्लामाबाद में गिलानी के नाम पर एक विश्वविद्यालय स्थापित करने और जिंदगी गाथा को स्कूली पाठयक्रम में सम्मिलित करने का भी प्रस्ताव पास किया गया है.

नेपाल : सिंधुपालचोक में खिसकी जमीन, कई लोग हुए लापता

बता दे कि पाक ने कश्मीरियों पर अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए ही गिलानी को निशान-ए-पाकिस्तान से नवाजने का दांव चला है. 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम 2019 को लागू करने व अनुच्छेद 370 को खत्म करने का एक वर्ष पूरा हुआ है. ऐसे में पाकिस्‍तान फिर नापाक हरकतों को अंजाम दे रहा है. वही, पाकिस्तान और कश्मीर की सियासत पर नजर रखने वालों के मुताबिक, गिलानी को यह सम्मान सिर्फ कश्मीर के अलगाववादी खेमे पर अपनी पकड़ बनाए रखने और कट्टरपंथी गिलानी व उनके समर्थकों को शांत कर मनाने की पाकिस्तान की एक कोशिश है. गिलानी और पाकिस्तान के बीच कश्मीर संबंधी मामले पर मतभेद चल रहे हैं. गिलानी को निशान-ए-पाकिस्तान प्रदान कर पाक एक प्रकार से उन्हें चुप करवाना चाहता है.

पाकिस्तान में हिंदुओं पर अत्याचार पर बढ़ा विरोध

क्या टिक टॉक की खरीदी में ट्रंप बन सकते है बाधा ?

यूएई और इजरायल के बीच हुआ ऐतिहासिक समझौता