चिदंबरम ने कहा - धार्मिक प्रतिष्ठानों और विश्वविद्यालयों के बीच है भ्रम की स्थिति

Feb 27 2016 11:42 AM
चिदंबरम ने कहा - धार्मिक प्रतिष्ठानों और विश्वविद्यालयों के बीच है भ्रम की स्थिति

नई दिल्ली : पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के पक्ष में शुक्रवार को कहा कि यह विश्वविद्यालय वह है जहां का कोई धार्मिक प्रतिष्ठान नहीं है। यहां विद्यार्थियों को गलती करने का पूरा अधिकार दिया गया है।

वित्तमंत्री चिदंबरम ने अपनी पुस्तक स्टैंडिंग गार्ड - ए इयर इन अपोजीशन के विमोचन को लेकर कहा कि विश्वविद्यालय ऐसे स्थान पर है जहां किसी को गलत होने का अधिकार हो। विश्वविद्यालय ऐसे स्थान है जहां उन्हें गलत होने का अधिकार दिया गया है वे धार्मिक प्रतिष्ठानों और विश्वविद्यालयों के मध्य भ्रमित हैं।

राष्ट्र विरोधी नारे लगाने को लेकर विश्वविद्यालय की परिभाषा पर पसोपेश बना हुआ है। इस बारे में पूर्व केंद्रीय वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने चिंता जताई कि देश में पहले ही सांप्रदायिक तनाव बढ़ रहा है। ऐसे में देश का ध्रुवीकरण हो गया है। पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि वर्ष 2014 कटुता भरा रहा। 2015 को लेकर भी इस तरह की उम्मीद जताई गई थी लेकिन 2015 धु्रवीकृत वर्ष बन गया था। उन्होंने इस बारे में चिंता भी जताई।